100 साल पहले इस जहाज की वजह से मनाया जाता है नेशनल मैरीटाइम डे, जानिए कितना खास है भारत के लिए यह दिन

नई दिल्ली: 5 अप्रैल 1919 को पहली समुद्री यात्रा पर निकली भारतीय जहाज जो मुंबई से ब्रिटेन के लिए रवाना हुई थी। उसी की याद में हर 5 अप्रैल को राष्ट्रीय समुद्री दिवस यानी नेशनल मैरीटाइम डे के रूप में मनाया जाता है। समुद्री दिवस भारत के लिए काफी खास माना जाता है।

5 अप्रैल 1919 को सिंधिया स्टीम नेविगेशन कंपनी लि. का बनाया हुआ पहला स्टीमशिप एसएस लॉयल्टी समुंद्र के रास्ते मुंबई से लंदन के लिए निकला था।

भारत का नेशनल मैरीटाइम डे मनाना और भी अहम् हो जाता है क्यूंकि इसी से भारत उद्योग की गतिविधिओं के साथ भारत की अर्थव्यवस्था में कितना महत्वपूर्ण योगदान है दिखाना है।

अप्रैल 2017 से फरवरी 2018 तक की रिपोर्ट पर नज़र डाले तो समुद्री के जरिये व्यापार करने में भारत दुनिया में 16 वे सबसे बड़े देश में शामिल है। भारत में 12 बड़े बंदरगाहों से देश का समुद्री व्यापार किया जाता है।

अगर देश में सबसे पुराने बंदरगाह की बात करे तो वो लोथल का नाम आता है। राष्ट्रीय समुद्री विज्ञान संस्थान भारत सरकार के वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद की एक लैब है जिसे 1 जनवरी साल 1966 में बनाया गया था।

Check Also

मौलाना अरशद मदनी ने कहा, देशभर में फैले कोरोना वायरस के लिए, तब्लीगी जमात के मरकज को बदनाम करना दुखद

एशिया के सबसे बड़े इस्लामिक शिक्षण संस्थान दारुल उलूम के मौलाना और जमीयत उलेमा-ए-हिंद के …