मजलूम अंसारी व इम्तियाज की हत्या कर शव को पेड़ से लटकाने पर 8 दोषियों को उम्रकैद

0
129
Loading...

लातेहार: झारखंड के लातेहार जिले के बालूमाथ में 17 मार्च 2016 को गोहत्या के संदेह में दो पशु व्यापारियों की हत्या के मामले में कोर्ट ने आठ आरोपियों पर 25-25 हजार जुर्माने के साथ उम्र कैद की सजा सुनाई। साथ ही कोर्ट ने अपने फैसले में कहा की, जुर्माने की राशि नहीं चुकाने पर एक साल की और अतिरिक्त सजा होगी।

गौरतलब है की, झारखंड के लातेहार जिले के बालूमाथ थाना क्षेत्र में 17 मार्च 2016 को गोहत्या के संदेह में 32 वर्षीय मजलूम अंसारी और 13 वर्षीय आजाद खान पुत्र इम्तियाज की हत्या करके पेड़ो से लटका दिया था। जो आराहारा गांव का निवासी था। ये दोनों पीड़ित गांवो से मवेशी खरीदने बेचने का काम करते थे। साथ ही छोटे मवेशी व्यापारी मेलों में भी मवेशी बेचने का काम करते थे। जिससे दोनों अपने परिवार का पालन-पोषण करते थे।

अदालत ने गौ क्रांति दल नामक संगठन से जुड़े सभी आरोपियों को मामले में दोषी पाया है। सभी आरोपी बालूमाथ थाना क्षेत्र के निवासी है जिनके नाम इस प्रकार है- अवधेश साव, मनोज साव, मनोज कुमार, प्रमोद साव, शाहदेव सोनी, मिथिलेश साहू, अरुण साव और विशाल तिवारी शामिल थे। वही इन में से कुछ का संबंध बजरंग दल से होने की बात सामने आयी थी। जिस पर बजरंग दल के पदाधिकारी इससे इनकार किया है।

अदालत के इस फैसले से मृतक के परिवार खुश नहीं है। उनका कहना है कि दोषियों को उम्रकैद नहीं फांसी की सजा होनी चाहिए। जिसको लेकर वे ऊपरी अदालत जायेंगे। मृतक के परिवार का आरोप है की 2 साल गुजर जाने के बाद अभी तक मुआवजा नहीं मिला है। वही अपने पुत्र इम्तियाज को खो चुके मां नाजमा बीवी व पिता आजाद खान ने बताया की उनके पास अपना परिवार चलाने के लिए कोई साधन नहीं है।

इम्तियाज के पिता ने बताया की, घटना के समय सरकार ने कई वादे किये थे मगर कुछ मिला नहीं। सरकार ने हमें एक सिरे से अनदेखा कर दिया है। मेरे नाबालिग बेटे पर घर की बड़ी जिम्मेदारी थी, जिसको हमने खो दिया है। करीब 35 डिसमिल जमीन उनके हिस्से में है। उसी से घर चल रहा है। सरकार की तरफ से कोई मदद नहीं मिली है।

Loading...