सर्दी, खांसी होने पर एक महीने के बच्चे को लोहे के गर्म सरिये से 15 बार दागा, तबीयत बिगड़ी तो लेकर भागे अस्पताल

मध्य प्रदेश के इंदौर में 1 महीने के मासूम बच्चे को सर्दी, खांसी होने पर सीने पर गर्म सरिये से 15 जगह दागने का मामला सामने आया है। यह मामला इंदौर के पिटोल समोई गांव का बताया गया है।

वहीं जब बच्चे को गर्म सरिये से दागने पर भी उसे आराम नहीं मिला तो परिवार वाले पिटोल में एक निजी डॉक्टर के पास गए। डॉक्टर निशान देखकर हैरान रह गए। डॉक्टर ने पहले घर वालों को खूब डांट लगाई उसके बाद बच्चे का इलाज शुरू किया। फिलहाल मासूम बच्चा पहले से ठीक है लेकिन सीने पर दागी गई गर्म सलाखों का दर्द उसे परेशान करता है।

पिटोल में सांस के ज्यादा तेज चलने पर यहां हापलिया का नाम दिया गया है। लोग हापलिया होने पर तांत्रिक के पास जाकर गर्म सलाखों से दागा जाता है यहां पर इसे डामना कहते हैं।

वही पिटोल के डॉक्टर का कहना है कि यहां सामान्य सर्दी की वजह से सांस लेने में दिक्कत होती है ऐसा अक्सर बच्चों के साथ देखा गया है कि उन्हें सीने पर दागा गया है लेकिन बादल के साथ 15 निशान देखकर मैं खुद हैरान हूं।

जिला अस्पताल के एसएनसीयू के प्रभारी डॉ. आईएस चौहान का कहना है कि यहां पर 1 महीने में 3-4 बच्चे ऐसे देखने को मिल जाते हैं जिनके सीने पर डामना के निशान पाए जाते हैं। सर्दी, खांसी, जुखाम होने पर दवाइयों से ठीक किया जा सकता है। लेकिन यहां अंधविश्वास की वजह से लोग तांत्रिकों के पास चले जाते हैं।

Check Also

पुलिस जवानों ने गर्भवती महिला को चारपाई पर उठाकर पहुंचाया अस्पताल, गेट पर महिला ने बच्चे को दिया जन्म

छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले के लेमरू वन क्षेत्र में बसे बिलासपुर और सरगुजा संभाग के …