लॉकडाउन के बाद महाराष्ट्र से अपने गांव पैदल जा रही महिला मजदूर ने सड़क किनारे दिया बच्ची को जन्म

देशभर में लगा लॉकडाउन अब प्रवासी मजदूरों पर भारी पड़ रहा है इसी क्रम में मध्य प्रदेश के सतना जिले की रहने वाली 30 साल की प्रवासी महिला मजदूर महाराष्ट्र से अपने गांव पैदल जाते समय रास्ते में ही सड़क किनारे बच्ची को जन्म दे दिया है। यह महिला एमपी के सतना जिले के समीप ग्राम उचेरा जा रही थी।

मीडिया में छपी खबर के अनुसार बड़वानी जिले स्थित सेंधवा ग्रामीण पुलिस थाना प्रभारी वी एस परिहार ने बताया कि महिला की पहचान शकुंतला के रूप में हो चुकी है यह उसकी पाचवी औलाद है लेकिन जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ हैं।

थाना प्रभारी परिहार ने आगे बताया कि, मध्य प्रदेश के सतना से महाराष्ट्र के नासिक के समीप गांव में काम करने गए मजदूर लॉकडाउन की वजह से घर लौट रहे थे जिसमें शकुंतला भी शामिल थी वह अपने पति तथा चार बच्चों के साथ एमपी के सतना जिले के ग्राम उचेरा के लिए निकली थी।

परिहार ने बताया कि यह घटना 4 दिन पहले की है जब शकुंतला को नासिक और धूलिया के बीज महाराष्ट्र स्थित ग्राम पिपरी में प्रसव पीड़ा हुई थी इसके बाद अन्य महिलाओं ने सड़क किनारे ही शकुंतला को बच्चे को जन्म देने में मदद की थी। थाना प्रभारी ने बताया कि मध्य प्रदेश में दाखिल होने के बाद बिजासन चौकी पर सभी प्रवासी मजदूरों का मेडिकल चेकअप किया जा रहा था तो उसी समय पुलिस की नजर शकुंतला पर पड़ी पूछताछ में उसने सारी बात बताई।

इसके बाद पुलिस ने पति एवं नवजात शिशु सहित पांचों बच्चों को एक एकलव्य छात्रावास पहुंचाया। जहाँ उनके ठहरने और खाने की व्यवस्था के अलावा उनके गांव छोड़ने के लिए बस की व्यवस्था की।

Check Also

पुलिस जवानों ने गर्भवती महिला को चारपाई पर उठाकर पहुंचाया अस्पताल, गेट पर महिला ने बच्चे को दिया जन्म

छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले के लेमरू वन क्षेत्र में बसे बिलासपुर और सरगुजा संभाग के …