अजब गज़ब: इस देश की घड़ियों में कभी नहीं बजते बारह, जिसकी वजह जानकर आप लंबी सोच में पड़ जाएंगे..

जब भी घडी में 12 बजते है, तभी दिन में कोई न कोई बदलाव आता है। जैसी की रात में 12 बजते ही दूसरे दिन की शुरूआत हो जाती है, वहीं दिन के 12 बजते ही दूसरा पहर लग जाता है। चलिए आज हम आपको एक ऐसी घड़ी के बारे में बताते हैं, जिसमें कभी 12 नहीं बजते हैं। ये घड़ी स्विटजरलैंड देश सोलोथर्न शहर में तंगी हुई है। यह घड़ी कभी 12 नहीं बजाती है। इस घड़ी से 12 गायब है।

चलिए जानते हैं आखिर ऐसा क्यों हैं, दरअसल, इस शहर के लोगों को 11 नंबर से काफी प्यार है। यहां की अधिकतर चीजों का डिजाइन इस नंबर के आस-पास ही घूमता है। यहां चर्चों और चैपलों की संख्या भी 11-11 है। ऐतिहासिक झरने, संग्रहालय और यहां तक की टावर भी 11 नंबर के हैं।

यही नहीं यहां के सेंट उर्सूस के मुख्य चर्च में भी आपको 11 नंबर के प्रति लोगों का प्यार दिखाई दे जाएगा। ये चर्च 11 साल में ही बनकर तैयार हुआ। इसमें सीढिय़ों का सेट तीन है, जिसमें हर सेट में 11 पंक्तियां, 11 दरवाजे, 11 घंटियां और 11 वेदियां मौजूद हैं।

11 नंबर से लोगों को इतना लगाव है कि, यहां हर चीज में 11 दिखाई देती है। यहां के लोगों के जीवन में भी 11 नंबर का खास महत्व है। यहां के लोग हर 11वें जन्मदिन को बेहद खास तरह से सेलेब्रेट करते हैं। जन्मदिन के मौके पर दिए जाने वाले प्रॉडक्ट भी 11 नंबर से जुड़े होते है। जैसे ऑफी बीयर यानी बीयर 11, 11-आई चॉकोलेड।

11 नंबर से क्यों है यहां के लोगो को लगाव
11 नंबर के प्रति लोगों का लगाव के बारे में यहां कुछ पौराणिक मान्यता है। एक मान्यता के मुताबिक, एक वक़्त था जब सोलोर्थन के लोग काफी मेहनत करते थे। बेहद मेहनत और काम करने के बावजूद उनकी जिंदगी में खुशियां नहीं थी। इस बीच यहां की पहाडिय़ों से एल्फ आने लगे और यहां के लोगों का हौसला बढ़ाने लगे। एल्फ के आते ही उनके जीवन में खुशहाली आने लगी। जर्मनी भाषा के अनुसार एल्फ का मतलब 11 होता है। इसलिए यहां के लोगों ने एल्फ को 11 नंबर से जोड़ दिया। उनके एहसानों को याद करने के लिए लोगों ने 11 नंबर को महत्व देना शुरू कर दिया।

Check Also

Omg! अचानक एक ही अस्पताल की 9 नर्से हुई गर्भवती, जांच में सामने आया ये माजरा

कई बार कई ऐसी अजब गज़ब खबरे सामने आती है, जिनको पढ़कर काफी हैरानी होती …