हिन्दू धर्म अपना चुके अख्तर अली ने कहा, भारत में मुस्लिमों से नहीं होता अच्छा व्यवहार

0
615
Loading...

उत्तर प्रदेश: यूपी के बागपत में एक ही परिवार के 13 सदस्यों के धर्मपरिवर्तन का मामला सामने आया है। परिवार के मुखिया का कहना है की मेरे बेटे की मौत पर पुलिस द्वारा निष्पक्ष जांच नहीं हुई और न ही मुस्लिम समाज ने मेरा साथ दिया। अतः परिवार के 13 सदस्य हिंदू धर्म स्वीकार कर रहे है।


हिंदू युवा वाहिनी की मौजूदगी में पंडित ने हवन कराकर 13 लोगों को यथानियम रूप से हिंदू धर्म स्वीकार कराया गया। धर्म परिवर्तन करने वाले अख्तर अली के पुरे परिवार वालो ने जिले के SDM को इस संबंध में शपथपत्र भी सौंपे। इस धर्म परिवर्तन की पुष्टि जिले के डीएम भी कर चुके है। वही अख्तर अली से धर्म परिवर्तन कर बने धर्म सिंह ने कहा मोदी जी के भारत में मुस्लिमों के साथ सही बर्ताव नहीं किया जाता है, मुझे इन्साफ चाहिए।

धर्म परिवर्तन की वजह बताते हुये धर्म सिंह ने कहा की पहले मेरा नाम अख्तर अली था पुलिस पर आरोप लगाते हुये कहा की मेरे बेटे की मौत की पुलिस ने सही से जांच नहीं की। और न ही मुस्लिमो को इंडिया में समान नज़र से देखा जाता है। साथ ही मुस्लिम समाज के लोगो ने भी मेरा साथ नहीं दिया। इसीलिए धर्म परिवर्तन करना पड़ा। अख्तर अली के अलावा उनके बेटे नौशाद से नरेंद्र, इरशाद से कवि और दिलशाद से दिलेर सिंह बन गए और तीनों की पत्नियों, दो पोते और चार पोतियां भी शामिल है। हालांकि महिलाओं और बच्चियों को इस कार्यक्रम से दूर रखा गया और परिवार के बच्चो सहित 7 लोग इसमें शामिल हुए।

इनका मानना है की जो इंसाफ मुस्लिम रहकर नहीं मिल सका वो धर्म परिवर्तन करने से मिल जायेगा। इन लोगों का कहना है हिन्दू बनने से योगी से उन्हें इंसाफ जरूर मिलेगा और जरूरत पड़ी तो इसकी CBI जांच भी होनी चाहिए। उन्होंने कहा की मुस्लिम रहकर अपने बेटे को इंसाफ नहीं दिला सकते क्यूंकि मुस्लिम धर्म के दबंगों ने हमारे बेटे को मारा है, कहा आज भी पुरे परिवार को जान से मारने की धमकी मिल रही है। जिनकी डर से हम अपना गांव तक छोड़ दिए है। इसी कारण से हमने मुस्लिम धर्म छोड़कर हिन्दू धर्म अपनाने का फैसला किया है। उन्हें यकीन है की हिन्दू धर्म में रहकर ही हमें इंसाफ मिल सकता है।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए आप इस लिंक को क्लिक करके हमारे फेसबुक पेज को लाइक कर सकते है

Loading...