बड़ी खबर- सीबीआई डायरेक्टर पद से हटाए गए आलोक वर्मा, PM मोदी की अध्‍यक्षता वाली समिति ने किया फैसला

0
206

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट के मंगलवार के फैसले के बाद सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा ने सीबीआई डायरेक्टर का कार्यभार संभाला था। उसके एक दिन बाद ही आलोक वर्मा को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्‍यक्षता वाली तीन सदस्‍यीय उच्‍चस्‍तरीय समिति ने सीबीआई डायरेक्टर पद से हटा दिया है।

वही इस सेलेक्‍ट कमेटी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अलावा कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और भारत के मुख्‍य न्‍यायाधीश रंजन गोगोई के प्रतिनिधि के तौर पर जस्टिस एके. सीकरी शामिल थे। सीबीआई डायरेक्टर पद से आलोक वर्मा को हटाने का फैसला 2-1 के बहुमत से लिया गया।

इससे पहले खबर थी की दो दौर की बातचीत ख़त्म होने के बाद भी आलोक वर्मा को सीबीआई डायरेक्टर पद से हटाने पर सहमति नहीं बन पाई थी। मीडिया खबरों को माने तो कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे समिति के फैसले से सहमत नहीं थे। खड़गे को कुछ बातों को लेकर एतराज़ था। बतादे की आलोक वर्मा को केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) ने जबरन छुट्टी पर भेज दिया था। 77 दिनों के बाद जस्टिस संजय किशन कौल की न्यायपीठ ने उन्हें बहाल कर दिया था।

न्‍यूज एजेंसी पीटीआई के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्‍यक्षता वाली तीन सदस्‍यीय उच्‍चस्‍तरीय समिति ने भ्रष्‍टाचार और दायित्‍वों का सही तरीके से निर्वाह न करने के आरोप में आलोक वर्मा को सीबीआई डायरेक्टर पद से हटाने का 2-1 के बहुमत से फैसला लिया है। वही न्‍यूज एजेंसी का कहना है की आलोक वर्मा को अब राष्‍ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) में नियुक्‍त किया जा सकता है।

77 दिनों के बाद सीबीआई निदेशक पद पर वापसी करते हुए आलोक वर्मा ने सीबीआई के तत्‍कालीन अंतरिम निदेशक एम. नागेश्‍वर राव द्वारा किए गए ज्यादा ट्रांसफर को रद्द कर दिया था। इसके साथ ही गुरुवार 10 जनवरी को 5 अन्‍य सीबीआई अधिकारियो का तबादला कर दिया था।

Loading...