(PC-ANI)

लॉकडाउन के बीच गर्भवती महिला को स्ट्रेचर पर लेकर 7 किलोमीटर पैदल चले लोग, तब जाकर बच पाई महिला की जान

तेलंगाना: कोरोना वायरस की वजह से जहाँ पूरा देश लॉक डाउन चल रहा है इसी बीच तेलंगाना के पुसुगुदेम गाँव से स्टेचर पर 7 किलोमीटर तक पैदल चलकर 3 स्वास्थ्य और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने महिला की जान बचाई। महिला ने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया है।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार, “एक जंगल में रास्ते में महिला को तेज प्रसव पीड़ा महसूस होने पर 3 स्वास्थ्य और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने कल पुसुगुदेम गाँव से 7 किलोमीटर पैदल चलकर मुलकालपल्ली, भद्राद्री कोठागुदेम में एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में गर्भवती आदिवासी महिला को स्ट्रेचर पर लेकर आये। जहाँ महिला ने बच्चे को जन्म दिया।”

मंगलवार को भारत के पीएम मोदी ने सभी देशवासियों को अगले 21 दिनों तक घर तक सीमित रहने के लिए कहा है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा था कि यह तालाबंदी देश के हर ज़िले, हर गली, हर गॉंव में लागू होगी और अगर लोग अगले 21 दिनों को नहीं संभाल पाए तो देश 21 साल पीछे चला जाएगा।

देश के 24 राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों में कोविड-19 महामारी के अब तक सैकड़ों मामलों की पुष्टि हो चुकी है जिनमें भारतीय नागरिको के अलावा विदेशी नागरिक भी शामिल हैं। इनमें वे 67 मरीज़ भी शामिल हैं जिन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है।

Check Also

वाराणसी: मास्क के लिए टोकने पर भाजपा नेता और बेटों ने दरोगा-सिपाहियों को पीटा

वाराणसी: ऐसा लग रहा है जैसे पुलिस का डर ही लोगों के जेहन से खत्म …