हाई कोर्ट की रोक के बावजूद अमि‍त शाह क‍िसी कीमत पर न‍िकालेंगे ‘रथयात्रा’

0
32

नई दिल्ली: कलकत्ता हाईकोर्ट द्वारा भाजपा की ‘रथयात्रा’ को अनुमति नहीं मिलने पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार को कहा कि पार्टी पश्चिम बंगाल में ‘रथयात्रा’ जरूर निकलेगी। और इसे की रोक नहीं सकता है। पश्चिम बंगाल सरकार ने कलकत्ता हाईकोर्ट से कहा था की इस ‘रथयात्रा’ से हिंसा का अंदेशा है। जिसके बाद कलकत्ता हाईकोर्ट ने इस ‘रथयात्रा’ पर रोक लगा दी थी।

वही अमित शाह ने संवाददाता सम्मेलन में साफ़ तौर पर कहा की, हम निश्चित तौर पर यात्रााएं निकालेंगे और हमें ऐसा करने से कोई रोक नहीं सकता है। उन्होंने कहा की, भाजपा पश्चिम बंगाल में बदलाव के प्रति प्रतिबद्ध है। ‘यात्राएं’ रद्द नहीं, सिर्फ स्थगित की गयी हैं। शाह ने ममता सरकार पर आरोप लगाते हुये कहा की, देश में सर्वाधिक सियासी हत्याएं इस प्रदेश में की गई है।

गौरतलब है की, भाजपा की पश्चिम बंगाल में ‘रथयात्रा’ 5 से 9 दिसंबर तक निकाली जानी है। जिसमे एक ‘रथयात्रा’ का कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया है। जिसमे बीजेपी पार्टी अध्यक्ष हिस्सा लेने वाले थे। इन तीनो ‘रथयात्रा’ को बंगाल के मंदिर शहर तारापीठ, उत्तर बंगाल के कूच विहार और दक्षिण बंगाल के गंगासागर में करने का निर्णय लिया गया था। यह ‘रथयात्रा’ राज्य के सभी 42 लोकसभा क्षेत्रों से होते हुये जनवरी के दूसरे सप्ताह में कोलकाता में खत्म होगी।

इसके अलावा पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा ने कहा की, अमित शाह-जी पार्टी के तेलंगाना विधानसभा चुनाव अभियान में व्यस्त होने की वजह से वह 5 दिसंबर को निकलने वाली ‘रथयात्रा’ में शामिल नहीं हो पाएंगे। इसलिए मंदिर शहर तारापीठ में होने वाली ‘रथयात्रा’ को स्थगित कर दिया गया है। और अब यह 14 दिसंबर को निकाली जाएगी।

loading...