मुलिम विरोधी लोगों ने की रेलमंत्री से मांग, जल्द से जल्द बदला जाए निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन का नाम, वरना सुनकर कोरोना की याद आएगी

मौजूदा समय में दुनिया में कोरोना वायरस जमकर हाहाकार मचा रहा है, इस भयंकर महामारी से न केवल लोगो की जान जा रही है बल्कि अर्थव्यवस्था भी चरमरा रही है। देश में सरकार दवारा कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए 21 दिनों का लॉकडाउन लागु है, जोकि 14 अप्रैल तक चलेगा। विश्व स्वास्थ्य संगठन ( WHO ) ने भी भारत के इस कदम की जमकर तारीफ की थी। लेकिन फिर भी देश में रॉकेट के रफ़्तार से कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने लगी।

फिर तब्लीगी जमात के कई लोगों में कोरोना मरीज़ पाए गए, जिससे देश की राजनीती में भी भूचाल आ गया। काफी मुर्ख लोगो और नेताओं ने तो इस वायरस को कोरोना जिहाद तक बता दिया। उनका ऐसा मन्ना है कि देश के 17 राज्यों में तब्लीगी जमात के कारण कोरोना फ़ैल गया है।

जमातियों की कुकृत्य के कारण देश में भय का माहौल है। और कोई भी व्यक्ति जालीदार टोपी और लम्बी दाढ़ी वालों को अपने आस-पास नहीं देखना चाहता है। यही सब देखते हुए सोशल मीडिया ने केंद्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल से मांग की है की निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन का नाम बदला जाय। इसके पीछे लोगों ने अपना तर्क भी रखा है।

ट्विटर यूजर अभिषेक कुलश्रेष्ठ ने रेलमंत्री पीयूष को टैग करते हुए ट्वीट किया है कि, कोरोना की वजह से निज़ामुद्दीन के नाम से अब लोग आतंकित है। इसलिये मेरा रेलमंत्री पीयूष गोयल से निवेदन है कि, जल्द से जल्द निज़ामुद्दीन रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर इंद्रप्रस्थ या कुछ और किया जाए। कुलश्रेष्ठ के ट्वीट के बाद लोग उनका जमकर समर्थन भी कर रहे हैं।

Check Also

Lockdown 5: अनलॉक 1 में जाने कहां-क्या छूट, अब लॉकडाउन खुलना हो चूका है शुरू

नई दिल्ली: गृह मंत्रालय ने लॉकडाउन 5.0 को लेकर गाइडलाइन जारी कर दी है लेकिन …