तुर्की के अलावा श्रीलंका ने भी भारत को प्याज देने से किया मना, अभी कई महीने सस्ता नहीं होगा प्याज

नई दिल्ली: प्याज के दामों से देश की जनता को राहत की उम्मीद नहीं नजर आ रही है। पिछले कई महीनों से प्याज के दामों में उछाल देखने को मिले हैं आगे भी प्याज की कीमतों में कोई गिरावट नजर नहीं आ रही है क्योंकि तुर्की ने प्याज निर्यात करने पर प्रतिबंध लगा दिया है तो वही श्रीलंका भी प्याज निर्यात में बड़ी कटौती कर दी है।

इसके अलावा श्रीलंका ने भी अपने ऊपर परोक्ष रूप से लगे प्रतिबंधों से नाराज होकर प्याज को भारत भेजना कम कर दिया है। इससे साफ होता है कि देश की जनता को आने वाले नए साल 2020 में भी महंगे प्याज खरीदने पड़ेंगे। मंडी में प्याज की कीमतों में गिरावट तभी देखने को मिलेगी जब प्याज की फसल में इजाफा होगा।

प्याज के आयात बढ़ाने के बावजूद कीमतों में कोई खास अंतर नहीं देखा गया। आज भी देशभर में प्याज का खुदरा मूल्य 100 से लेकर 120 रुपये प्रति किलो है। हालांकि बाजार में खराब गुणवत्ता वाली प्याज 80 रुपए किलो तक मिल जा रही है।

एशिया की सबसे बड़ी प्याज मंडी महाराष्ट्र के लासल गांव में प्याज की रोजाना आवक 12 हजार से बढ़कर 13 हजार हो चुकी है। लेकिन फिर भी कीमतें पर कोई फर्क नहीं पड़ रहा है। आगे भी प्याज की कीमतों के दामों में कोई गिरावट दिखने के आसार नजर नहीं आ रहे है लेकिन प्याज की मांग को देखते हुए अफगानिस्तान और मिस्र से भारत को मदद मिल रही है।

व्यापारियों का कहना है कि तुर्की से प्याज पूरी तरह बंद और श्रीलंका प्याज निर्यात में भारी कटौती से दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं श्रीलंका ने फाइटोसैनिटरी डॉक्यूमेंट जारी करने के नियम को जटिल कर दिया है। जिसकी वजह से प्याज की आमद बंद हो गई है ऐसे में कम से कम फरवरी तक प्याज के दामों में कोई कमी आने की उम्मीद नहीं नज़र आती।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …