धर्मगुरुओ की अपील, रमजान में कोई भी मस्जिद में ना आए, घर पर करे इबादत

कोरोना महामारी के बीच पाक रमजान उल मुबारक महीने की शुरुआत हो चुकी है रांची समेत राज्य के कई हिस्सों में चांद देखा गया है और शनिवार से रोजा शुरू हो चूका है। एदार ए शरिया के महासचिव मौलाना कुतुबुद्दीन रिजवी और इमारत ए शरिया के मुफ्ती अनवर कासमी ने शुक्रवार को रमजान उल मुबारक महीने का चांद देखने का ऐलान कर दिया जिसके बाद रमजान मुबारक महीने का पहला रोजा शनिवार को रखा गया।

24 अप्रैल को रांची समेत प्रदेश के कई हिस्सों में चांद देखा गया है जिसके बाद 25 अप्रैल दिन शनिवार से रोजा रखा गया। इसी के साथ नमाजे तरावीह भी शुरू हो चुकी है। एदार ए शरीया ने लोगो से अपील की है वो लॉकडाउन में धार्मिक लोगों के अलावा कोई भी मस्जिद में ना आए, पांच वक्त की नमाज घर पर ही रह कर पढ़े।

1 महीने तक चलने वाले इस पाक महीने को लेकर मुस्लिम समुदाय के लोगों में खासा उत्साह देखने को मिलता है। धर्मगुरु का कहना है कि इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार आज रमजान का चांद देखा गया है और चांद नजर आने की पुष्टि की गई है शनिवार से पहला रोजा रखा जाएगा।

इसके अलावा इस्लाम के धर्मगुरुओं ने कोरोनावायरस मद्देनजर देश में किए गए लॉकडाउन का पालन करने की मुसलमानों से अपील की है और साथ ही कहा है कि वह घर पर रहकर ही इबादत करें।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …