मीडिया पर भड़के असदुद्दीन ओवैसी कहा, कोरोना को मजहब का रूप देना पत्रकारिता के नाम पर धब्बा

मौजूदा वक़्त में पुरे देश में कोरोना से बवाल मचा हुआ है, इसमें मरने वालों की संख्या 50 तक पहुंच चुकी है, साथ ही संक्रमित लोगों की संख्या 1965 हो गई है। इस बीच निजामुद्दीन मरकज मामले को लेकर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने मीडिया और सरकार को आड़े हाथ लिया है।

एआईएमआईएम ने एक वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि, ‘इस मीडिया ने कोविड-19 को एक मजहब का रूप दे दिया। कोई मुल्क इसको मजहब से नहीं जोड़ रहा है। सब कह रहे हैं कि मिलकर इसका मुकाबला करना है, लेकिन मीडिया के लोग इतने बेशर्म हैं, पत्रकारिता के नाम पर धब्बा हैं ये लोग। ये मजहब को इससे (कोरोना) से जोड़ रहे हैं।’

ओवैसी ने कहा, ‘संसद को क्यों नहीं बंद किया गया, 13 मार्च को स्वास्थ्य मंत्रालय कहता है कि ये कोविड स्वास्थ्य का मामला नहीं है, संसद चलती है, मध्य प्रदेश में बीजेपी सरकार बनाती है, हजारों की तादात में लोग खुशियां मनाते होंगे दफ्तर में आकर, तब आपको याद नहीं आया। आज से चंद दिन पहले दिल्ली में हजारों लोग जो उत्तर प्रदेश, बंगाल, बिहार से हैं भूख के चलते वहां से निकल जाते हैं। उस समय आपने (सरकार) कुछ नहीं बोला।’

उन्होंने कहा कि, ‘भारत बंद खत्म होने के बाद लोग बाहर निकलकर थालियां और बैंड बजा रहे हैं। उस समय आपको नजर नहीं आया। ठीक है दिल्ली में तबलीगी जमात का कार्यक्रम हुआ वहां से लोग निकलकर आए, इससे हम इनकार नहीं कर रहे हैं। लेकिन इससे पूरी तबलीगी जमात को खड़ा कर देंगे, इस्लाम को जिम्मेदार खड़ा कर देंगे। ये महामारी है। मीडिया के लोग इस मामले को मजहब से जोड़ रहे हैं, जोकि पूरी तरह से निंदनीय है।’

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …