यूपी में बेरोजगारी चरम पर, 62 पदों के लिए 1 लाख हुए आवेदन, 3,700 पीएचडी धारक

0
73

उत्तर प्रदेश: लोकसभा चुनाव से ठीक पहले यूपी में बेरोजगारी का बड़ा ग्राफ देखने को मिला है। पिछले दिनों उत्तर प्रदेश पुलिस विभाग में टेलीफोन मैसेंजर के लिए कुल 62 पदों पर भर्तियाँ निकाली थी। लेकिन सबसे हैरानी वाली बात ये है की इस पोस्ट के लिए एक लाख तक लोगो ने आवेदन किया था। जिसमे जानकारी के अनुसार तक़रीबन 3700 पीएचडी धारको ने आवेदन किया है।

योगी सरकार ने जुलाई 2018 में ने इन 62 पदों पर आवेदन मांगे थे। जिसके लिए एक लाख तक लोगो ने आवेदन किया था। टेलीफोन मैसेंजर का कार्य साइकिल के जरिए पुलिस विभागों के दस्तावेज, चिट्ठियों और फाइलों को एक थाने से दूसरे थाने ले जाने का होता है।

वही इतनी ज्यादा संख्या में आये आवेदन से सेलेक्शन बोर्ड भी हैरान है। सूत्रों के हवाले से खबरों में कहा गया है की जिन 62 पदों के लिए एक लाख लोगों ने आवेदन आये है उनमे 50 हजार स्तानक, 28 हजार स्नातकोत्तर और 3,700 पीएचडी होल्डर है। उत्तर प्रदेश में बेरोजगारी ऐसे समय पर देखने को मिल रही है। जब पुरे देश में बेरोजगारी को लेकर बहस चल रही है।

पिछले हफ्ते बेरोजगारी को लेकर बड़े खुलासे किये गए थे जिसमे दावा किया गया था कि देश में 45 सालों में साल 2017-18 में सबसे जयादा बेरोजगारी थी। लेकिन बीजेपी ने इन आंकड़ों का खंडन किया था।

वही 7 फ़रवरी, 2019 को प्रधानमंत्री मोदी ने को कहा था, “हमारे कार्यकाल में करोड़ों नौकरियां पैदा की गईं।” इससे पहले कैंटीन वेटर के पद की भर्ती के लिए 7 हजार आवेदन किये गए थे, जिनमें ज्यादातर लोग ग्रैजुएट थे।

Loading...