प्रणब दा को मिले ‘भारत रत्न’ पर आजम का तंज कहा- RSS की दावत कबूलने का मिला है इनाम

0
606
Loading...

उत्तर प्रदेश: समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न मिलने पर सवाल उठाते हुए कहा की, इसमें किसी तरह की कोई राजनीति नहीं है बल्कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने संघ की दावत से शामिल हुए थे तथा उनके एक कार्यक्रम को लेकर संघ के मुख्यालय गए थे। यह भारत रत्न उसी की जगह इनाम मिला है।

आजम खान ने आगे कहा की, “डॉ. मुखर्जी को जब भारत रत्न दिए जाने की सूचना मिली थी तो उन्होंने कहा था- मैं नहीं जानता कि क्या मैं इसके लायक हूं। शायद उन्हें भी समझ नहीं आया की भाजपा सरकार ने उन्हें भारत रत्न क्यों दिया।’ खान ने भाजपा के प. बंगाल में राजनीतिक जमीन तलाशने की कोशिशों के सवाल पर कहा, “भाजपा पैर जरूर पसारे, लेकिन ख्याल रखे कि नीचे तेजाब न हो।”

बतादे की प्रणब मुखर्जी ने कांग्रेस पार्टी में रहते हुए 2004 में पहली बार लोकसभा चुनाव जीता था। 2004 से लेकर 2006 तक उनको कांग्रेस ने रक्षा मंत्रालय की जिम्मेदारी सौपी थी। फिर 2006 से लेकर 2009 तक उनको विदेश मंत्रालय दिया गया था। तथा 2009 से लेकर 2012 तक उनको वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी सौपी गई थी। उसके बाद कांग्रेस ने 2012 में उन्हें राष्ट्रपति पद के लिए नामित किया।

प्रणब मुखर्जी राष्ट्रपति चुनाव में पीए संगमा को हराया था। उनका राष्ट्रपति का कार्यकाल 2012 से लेकर 2017 तक चला। वही राष्ट्रपति बनने से पहले प्रणब मुखर्जी करीब पांच दशक तक कांग्रेस पार्टी में रहे। जिसके बाद 2018 में प्रणब मुखर्जी नागपुर में संघ के मुख्यालय पर हुए एक कार्यक्रम में शामिल हुए थे। जिसको लेकर काफी बवाल हुआ था।

Loading...