‘दो हज़ार’ के नोट को लेकर आई बुरी खबर, जल्द पढ़े वरना पड़ेगा पछताना

भारत के सबसे बड़े बैंक (आरबीआई) ने आरटीआई के जवाब में बड़ा खुलासा किया है कि ‘दो हज़ार’ रुपये के नोटों की छपाई बंद की गई है। आरबीआई अनुसार इस वित्त वर्ष में ‘दो हज़ार’ रुपये का एक भी नोट नहीं छापा है। आरबीआई ने वित्तीय वर्ष 2016-17 में 3,542.991 मिलियन नोट छापे थे, जोकि 2017-18 में 111.507 मिलियन नोटों पर आ गए और लेकिन 2018-19 में 46.690 मिलियन नोटों में और कम हो गए, जैसा कि आरबीआई द्वारा द न्यू इंडियन एक्सप्रेस द्वारा दायर आरटीआई के जवाब में बताया गया था।

अधिकारियों का कहना है, ‘दो हज़ार’ रुपये के नोटों का उच्च प्रचलन सरकार के उद्देश्यों को हरा देगा। क्योंकि उच्च मूल्यवर्ग के नोटों की तस्करी करना बेहद आसान है। पहले भी ऐसी खबरें सामने आई थी कि ‘दो हज़ार’ रुपये के नोटों की छपाई बंद हो गई है, लेकिन सरकार दवारा इसका खंडन किया था। आरबीआई के अनुसार मार्च 2018 के अंत में प्रचलन में 3,363 मिलियन नोट थे, जो मात्रा के संदर्भ में कुल मुद्रा का 3.3 प्रतिशत और मूल्य के संदर्भ में 37.3 प्रतिशत थे।

आरटीआई दवारा जवाब तब आता है जब राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) दवारा दावा किया गया था कि ‘उच्च गुणवत्ता वाले’ नकली नोटों का पुनर्जीवन हुआ है, जिसमें पाकिस्तान मुख्य स्रोत बताया गया था।

Check Also

अनलॉक 2: क्या खुलेगा, क्या रहेगा बंद, यहाँ जाने खुलकर

नई दिल्ली: मोदी सरकार ने अनलॉक-2 के लिए नई गाइडलाइन्स जारी कर दी है। जिसमे …