बंगाल, कोरोना से छुटकारा पाने के लिए 500 रुपए लीटर बेच जा रहा था गोमूत्र, बेचने वाला व्यक्ति गिरफ्तार, अब तक बिका हज़ारों लीटर

इस समय कोरोना देश के लिए एक बड़ा खतरा बना हुआ है, इस दौरान अफवाह बंद नहीं हो रही है। दवा किया जा रहा है कि गोमूत्र का सेवन करने से कोरोना भाग जायेगा। वही इस बात का फायदा उठाते हुए माबुद अली नाम का एक मुस्लिम युवक चुपचाप देश के एक कोने में गोमूत्र बेचकर अपनी आजीविका चलाने का काम कर रहा है। हालाँकि ‘बिजनेस इनसाइडर’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक बताया जा रहा है कि उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।

बताया जा रहा है कि यह व्यक्ति दिल्ली और कोलकाता को जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 19 पर टेबल पर गोबर के पैकेट और जार में गौमूत्र रखकर बेच रहा था। हालाँकि, अगर दी क्विंट जैसे हिन्दुफोबिया से ग्रसित प्रोपेगेंडा वेबसाइट की मानें तो माबुद अली का कहना है कि उसे यह विचार दिल्ली में हिन्दू महासभा द्वारा आयोजित गौमूत्र पार्टी से मिला है।

दरअसल, हाल ही में चक्रपाणि महाराज नाम के एक व्यक्ति ने खुद को हिन्दू महासभा का अध्यक्ष बताते हुए कोरोना से निपटने के लिए गोमूत्र पार्टी का आयोजन किया था। सोशल मीडिया पर चक्रपाणि महाराज पर यह भी आरोप लगाए गए कि, उसे किसी हिन्दू विरोधी दल द्वारा ऐसा करने के लिए उकसाया गया है और उसकी मदद कि जा रही है और उसका हिन्दू महासभा से कोई लेना-देना नहीं है। काशी विद्वत परिषद ने भी ऑपइंडिया से बातचीत में चक्रपाणि महाराज नाम के इस व्यक्ति के हिन्दू विरोधी राजनीति का मोहरा होने की बात स्वीकारी है।

माबुद अली ने अपनी टेबल पर एक पोस्टर लगाया हुआ था, जिस पर लिखा है, “गौमूत्र पिएँ और कोरोना वायरस से बचें।” मीडिया के मुताबिक, अली ने कहा, “मेरे पास दो गायें हैं, एक भारतीय और दूसरी जर्सी। मैं अपना जीवन-यापन दूध बेचकर करता हूँ। जब मैंने टीवी पर गौमूत्र पार्टी देखी तो मुझे लगा कि मैं भी गौमूत्र और गोबर बेचकर पैसे कमा सकता हूँ। अब मैं गाय के हर हिस्से का उपयोग अपने बिजनेस में कर सकता हूँ।” मीडिया कि मानें तो माबुद अली ने यह भी बताया कि जर्सी गाय भारतीय गाय की तरह शुद्ध नस्ल नहीं है, इसलिए उसके मूत्र का ज्यादा डिमांड नहीं है।

Check Also

हाइड्रोक्लोरोक्वीन दवा के लिए ओवैसी ने मोदी-ट्रंप की दोस्ती पर उठा दी ऊँगली, कह दी ऐसी बात !

नई दिल्ली: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा भारत को हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वाइन दवाओं के लिए धमकी देने …