भीम आर्मी चीफ रावण ने कहा- मुसलमानों को सोचना होगा, उनका फायदा दलितों के साथ है

0
39

लखनऊ: हर राजनीतिक दलों के नेताओं की तरह भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर उर्फ़ रावण की नज़र मुस्लिम वोटों पर है। मुस्लिम वोटों के सहारे सत्ता में आना चाहते है चंद्रशेखर, एक बार फिर चंद्रशेखर मुस्लिम और दलित को एक करने में लगे है।

भीम आर्मी के दलित-मुस्लिम-अन्य पिछड़ा वर्ग एकजुटता अभियान के बारे में बात करते हुये चंद्रशेखर ने कहा कि, जिन नेताओ और जिन पार्टियों को मुस्लमान वोट देकर जिताते थे उन्ही ने इन्हे किनारे कर दिया। मुझे लगता है कि मुस्लिम को सोचना चाहिए की उनका फायदा आखिर किसके साथ है। उन्हें एक मापदंड बनाना चाहिए कि वे जिसे अपना समझकर वोट दे रहे हैं, क्या वह सही में उनका ख़ैरख़ाह है कि नहीं।

चंद्रशेखर ने आगे कहा की, मुझे लगता है कि दोनों विभाजन के बीच सामाजिक प्रेम बढ़ जाएगा अगर दलित और मुस्लिम एक हो जाये। फिर उन्हें कोई राजनीति टुकड़ों में नहीं बांट पाएगी। उन्होंने कहा कि दोनों वर्ग काफी लंबे समय से वंचित वर्ग हैं। मैं उनको उनकी कमजोरी के बारे में बता रहा हूँ। साथ ही उन्हें यह भी बता रहा हूं कि वास्तव में उनका फायदा कहा है।

जब चंद्रशेखर उर्फ़ रावण से सवाल किया गया की क्या, मुस्लिम समाज में कोई सर्वमान्य नेतृत्व नहीं होना और दलित-मुस्लिम एकजुटता ना बन पाने के लिए बड़ी रुकावट है। सवाल पर सहमति जताते हुये रावण ने कहा कि देश में पिछले कुछ सालों से मुसलमानों पर इतने जुल्म किये गए जिसमे मॉब लिचिंग‘ शामिल। है मगर उनके अपने होने का दावा करने वाले किसी भी दल ने उनकी आवाज उठाने के लिए सामने नहीं आये। मुस्लिम समाज के साथ अब तक वोटों की ठगी हुई है।

चंद्रशेखर ने आगे कहा की, वह मुस्लिम-दलित एकजुटता अभियान में अन्य पिछड़े वर्गों को भी जोड़ना चाहते हैं। जिससे देश का बहुत बड़ा वर्ग धर्म के नाम पर टुकड़ो में बटने से बच जाये। उनको भी समझ में आये कि उनके वास्तविक अधिकार क्या हैं। साथ भी अब हमारा पूरा ध्यान उनको एकजुट और जागरूक करने पर है।

loading...