‘बड़ी खबर: समुद्र के नीचे मिला कोरोना वायरस को ख़त्म करने का इलाज, ये प्राकृतिक तत्व करेगी कोविड-19 का खात्मा’

कोरोना वायरस पूरी दुनिया के लिए सिरदर्द बना हुआ है। लेकिन 4 महीने गुजर जाने के बाद भी कोरोना वायरस का कोई सटीक इलाज नहीं मिला पाया है। हालाँकि डॉक्टर और वैज्ञानिक कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए दवाइयों और वैक्सीन की खोज में रात-दिन एक करके रिसर्च कर रहे हैं। लेकिन इसी बीच कोरोना वायरस को रोकने का इलाज समुद्र के नीचे मिला है।

रिलायंस इंडस्ट्रीज से जुड़े वैज्ञानिकों का दावा है कि समुद्र के नीचे पाई जाने वाली समुद्री लाल काई (शैवाल) से कोरोना वायरस को ख़त्म किया जा सकता है। वैज्ञानिकों का कहना है की समुद्री लाल शैवाल से तैयार किये गए जैव रासायनिक पाउडर को सैनिटरी की वस्तुओं पर कोटिंग कर इस्तेमाल में लाया जा सकता है।

समुद्री लाल शैवाल से एंटीवायरल दवा बनाना भी संभव हो सकता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि फंगस, जलीय जीवों और बैक्टीरिया में वायरस से होने वाली बीमारियों से लड़ने की जबरदस्त ताकत होती है। पॉलीसैचराइड्स एल्गीनेट, फ्यूकोडियन आदि कुछ ऐसे प्राकृतिक तत्व मौजूद है जिनमे एंटीवायरल खूबी मौजूद होती है।

पॉर्फिरीडियम से प्राप्त होने वाली पॉलसैचराइड्स को एंटीवायरल और इम्युनिटी बढ़ाने वाला माना जाता है। इस रिसर्च मे सल्फेट वाले पॉलीसैचराइड्स के स्त्रोत समुद्री लाल काई पॉर्फिरीडियम को कोरोना से लड़ने में अच्छा बताया गया है। रिसर्च पेपर के मुताबिक, काई से मिले सल्फेटेड पॉलीसैचराइड्स से कोरोना वायरस की वजह से सांस की नली में होने वाले इंफेक्शन को रोकने या इलाज के लिए उपयुक्त एंटीवायरल फार्मास्युटिकल कंपोजिशन तैयार करने में मदद मिल सकती है।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …