बिहार: मंदिर के बंद कमरे में जैन मुनि की पंखे से लटकी मिली लाश

0
43

चंपापुर दिगम्बर जैन सिद्ध मंदिर के बंद कमरे में जैन मुनि विप्रन सागर महाराज (63) की लाश पंखे से लटकती मिली। जैन मुनि विप्रन सागर मध्यप्रदेश के दमोह ज़िले के हथनी गांव के रहने वाले है और पैदल यात्रा कर चातुर्मास करने भागलपुर आए थे। भागलपुर के चंपापुर में पैदल यात्रा कर चातुर्मास करने का अपना अलग ही मकाम है। वह यहां पिछले 6 महीने से रह रहे थे। चंपापुर जैन सिद्ध क्षेत्र के महासचिव सुनील कुमार जैन ने बताया की जैन मुनि विप्रन सागर समाधि का बंदोबस्त मंदिर क्षेत्र में किया जायेगा।

सिटी DSP राजवंश सिंह ने बताया की बुधवार सुबह लाश को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम जवाहरलाल नेहरू भागलपुर मेडिकल कालेज हॉस्पिटल में कराया गया है। लाश को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराने से पहले जैन साध्वी इसका विरोध कर रही थी लेकिन समझाने पर वो मान गई।

चंपापुर जैन सिद्ध क्षेत्र के महासचिव सुनील कुमार जैन ने बताया की जैन मुनि विप्रन सागर समाधि का बंदोबस्त मंदिर क्षेत्र में किया जायेगा। उनके अंतिम दर्शन के लिए मृत शरीर मंदिर प्रांगण में रखा जायेगा और उनका अंतिम संस्कार जैन विधि-रीति के अनुसार होगा। अभी तक आत्महत्या की वजह का पता नहीं चल सका है।

इसके अलावा सिटी DSP ने कहा की जैन मुनि विप्रन सागर महाराज मध्यप्रदेश के दमोह ज़िले के हथनी गांव के रहने वाले है और झारखंड के गिरिडीह मधुबन स्थित जैनियों के तीर्थस्थल सम्वेद शिखर से पैदल यात्रा कर चातुर्मास करने भागलपुर आए थे। खुदकुशी की वजह का पता नहीं चल सका है। लेकिन पुलिस जानने की कोशिश में लगी है।

जैन मंदिर के गार्ड धनराज सिंह के अनुसार, जैन मुनि हमेशा की तरह दोपहर का खाना खाने के बाद 12:30 बजे कमरे में साधना करने गए। 4:30 बजे से 5:00 तक ये जैन अनुयायियों से मिलते थे। लेकिन उस दिन शाम के 7:30 बजे तक जैन मुनि विप्रन सागर अपने कमरे से नहीं निकले। जब शक होने पर कमरे का दरवाजा खटखटाया तो कोई आवाज अंदर से नहीं आई। तब मैंने दरवाजा तोड़ा तो देखा की जैन मुनि का शरीर फंदे के सहारे पंखे से लटक रहा था। तुरंत इसकी सुचना मंदिर के प्रबंधकों और नाथनगर पुलिस को दी। चर्चा में आया था की जैन मुनि ने सुसाईड नोट लिख छोड़ा है। मगर सिटी DSP ने इसे सिरे से खारिज कर दिया।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए आप इस लिंक को क्लिक करके हमारे फेसबुक पेज को लाइक कर सकते है

loading...