बीजेपी विधायक संगीत सोम ने कहा, जमात में शामिल लोगों के साथ आतंकवादियों की तरह व्यवहार होना चाहिए

उत्तर प्रदेश से बीजेपी विधायक संगीत सोम ने कहा है कि, दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के शामिल लोगों के साथ आतंकवादियों की तरह व्यवहार होना चाहिए। यह सोची समझी साजिश के तहत किया गया है। कोरोना वायरस के बचने के लिए जहां इस समय पूरा देश घर में है तो ये लोग एक साथ क्या कर रहे थे।

विधायक संगीत सोम ने एक न्यूज चैनल से बात करते हुए कहा कि, यह कोराेना आंतकवाद है। जानबूझ कर विदेशों से लोग भारत भेजे गए जिससे यहां यह बीमारी फैले। इससे पहले केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने भी कहा था कि यह आयोजन तालिबानी अपराध से कम नहीं है। अधिकारियों को इससे सख्ती से निपटना चाहिए।

संगीत सोम ने कहा कि 99 फीसदी लोग, जिनमें अल्पसंख्यक भी शामिल हैं, सरकार के प्रयासों का पुरजोर समर्थन करते हैं। हालांकि, उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई धार्मिक सीमाओं से परे है और इसे इस चश्मे से नहीं देखा जाना चाहिए।

वहीं जानमानी लेखिका तस्लीमा नसरीन ने एक ट्वीट के जरिए जमात पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा तब्लीगी जमात एक इस्लामी कट्टरपंथी आंदोलन है। यह 1926 में हरियाण के मेवात से शुरू हुआ। 150 देशों के 8 करोड़ मुसलमान जमात में भाग लेते हैं। उजबेकिस्तान, ताजिकिस्तान, कज़खस्तान ने इस पर प्रतिबंध लगा रखा है। जमात का आतंक के साथ कुछ अप्रत्यक्ष संबंध है।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …