BJP सांसद मनोज तिवारी ने प्रचार में सेना की वर्दी का किया अपमान, घिरे तो सफाई में लिया नेहरू का नाम

0
1009
Loading...

नई दिल्ली: ‘विजय संकल्प बाइक रैली’ में सेना की वर्दी पहनकर पहुंचे बीजेपी के सांसद मनोज तिवारी पर हो-हल्ला मचा हुआ है। लेकिन मनोज ने सेना की वर्दी पहनकर आने के बारे में सफाई देते हुए ट्वीट कर कहा की उन्होंने सेना का मान बढ़ाने के लिए वर्दी पहनी थी। लेकिन उसी में जवाहरलाल नेहरू को भी लपेटते हुए कहा क्या कल को मै नेहरू जैकेट पहनकर आया तो क्या वह नेहरू की बेइज्जती होगी।

वही मनोज तिवारी द्वारा ‘विजय संकल्प बाइक रैली’ में सेना की वर्दी पहनकर आने पर कई नेताओं के बयान सामने आये है जो मनोज तिवारी पर सेना के नाम पर राजनीति और अपमान करने का आरोप लगाया है।

मनोज तिवारी ने सफाई देते हुए ट्वीट किया, ” मैंने सिर्फ इसलिए पहना क्योंकि मुझे अपनी सेना पर गर्व था। मैं भारतीय सेना में नहीं हूं लेकिन मैं अपनी एकजुटता की भावना व्यक्त कर रहा हूं। इसे अपमान क्यों माना जाना चाहिए? हमारे पास हमारी सेना के लिए सबसे ज्यादा सम्मान है कल तर्क द्वारा यदि मैं नेहरू जैकेट पहनता हूं तो यह जवाहरलाल नेहरू का अपमान होगा।”

तृणमूल कांग्रेस के सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने सेना की वर्दी में चुनाव प्रचार करने को लेकर ट्वीट किया था, “बेशर्म। बेशर्म। बेशर्म। मनोज तिवारी भाजपा सांसद और दिल्ली अध्यक्ष सशस्त्र बल वर्दी पहने और वोट मांगते हुए। भाजपा-मोदी-शाह हमारे जवानों का अपमान और राजनीतिकरण कर रहे हैं। और फिर देशभक्ति पर व्याख्यान दिया। कम जीवन।”

आप पार्टी के मीडिया सलाहकार नागेंद्र शर्मा ने इसे अपराध बताते हुए ट्वीट किया, “दिल्ली भाजपा अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी ने सैन्य वर्दी पहनकर धारा 171 आईपीसी के तहत स्पष्ट अपराध किया है। 2016 के पठानकोट हमले के बाद, सेना ने किसी भी नागरिक को चेतावनी दी कि वह वर्दी पहने हुए कार्रवाई का सामना करेगा। मैं तिवारी और भाजपा की बेशर्मी पर भी नहीं हूं, लेकिन एक अपराध एक अपराध है।”

Loading...