रकबर लिंचिंग मामले में कोर्ट में चार्जशीट दाखिल, विश्व हिंदू परिषद नेता समेत 3 को बनाया गया आरोपी

0
146

अलवर में गौरक्षा के नाम पर कथित तौर पर पीट-पीट कर की गई रकबर की हत्या के मामले में अलवर पुलिस ने शुक्रवार को रामगढ़ की सिविल कोर्ट में अपनी चार्जशीट दाखिल कर दी जिसमे एक भी पुलिस वालो को दोषी नहीं बनाया गया है।

रामगढ़ पुलिस थाने के थानाअध्यक्ष चौथमल जाखड़ ने बताया कि धारा 302 के तहत यह आरोप-पत्र अलवर की अदालत में पेश किया गया है। तीन आरोपियों को IPC की धारा 302, 341, 323, 34 के तहत आरोप पत्र दाखिल किया है। तीन आरोपियों में धर्मेंद्र यादव, परमजीत सिंह और नरेश कुमार शामिल हैं। इस हत्या में विश्व हिंदू परिषद का कार्यकर्ता नवल किशोर भी शामिल है।

प्रदेश के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया कहा कि रकबर की मौत पुलिस हिरासत में होने की बात माने जाने के बाद भी चार्जशीट में किसी पुलिसकर्मी को कसूरवार नहीं बताया गया है। इसके अलावा इस मामले में एक ASI को निलंबित किया गया तथा तीन सिपाहियों को लाइन हाजिर किया गया। फिर भी चार्जशीट किसी का भी नाम शामिल नहीं किया गया।

पुलिसकर्मियों के खिलाफ चार्जशीट पेश नहीं करने पर अलवर पुलिस ने सफाई देते हुये कहा कि उनके खिलाफ मजिस्ट्रेट जांच चल रही है। जांच के बाद ही तय होगा कि वे कसूरवार हैं या नहीं। अदालत में दाखिल 25 पेज की चार्जशीट में FSL रिपोर्ट नहीं थी। जिसके बाद कोर्ट ने उसे लेने से मना कर दिया था। उपाधीक्षक (द.) अशाेक चाैहान ने 1 महीने में दूसरा रिपोर्ट पेश करने की अंडरटेकिंग दी। तब अदालत ने चार्जशीट स्वीकार की।

Loading...