KGMU लखनऊ की स्टाफ नर्स मे कोरोना की हुई पुष्टि, अब एक और मोहल्ला बन सकता है हाट स्पाट

लखनऊ: चाौक थाना क्षेत्र का एक और मोहल्ला हाट स्पाट घोषित किया जा सकता है। नख्खास और बिल्लौचपुरा मोहल्ले के बीच बसने वाले मोहल्ला कटरा आज़मबेग मे रहने वाली केजीएमयू की स्टाफ नर्स मे कोरोना वायरस की पुष्टि होने के बाद नर्स के परिजनो और आस-पास रहने वाले लोगो का आज स्वाथ्य विभाग की टीम ने पहुॅच कर सैम्पल ले लिया है।

रविवार की रात स्वाथ्य विभाग की टीम के द्वारा लिए गए सैम्पल की जाॅच मे यदि कोरोना संक्रमण की पुष्टि पाई जााएगी तो सम्भव है कि इस मोहल्लो को भी सील कर दिया जाए। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ मे अब तक 18 मोहल्लो को हाट स्पाट घोषित कर उन्हे सील किया जा चुका है।

आपको बता दे कि चाौक थाना क्षेत्र अन्तर्गत हाता संगीबेग मोहल्ला पहले ही सील किया जा चुका है हाता संगीबेग मोहल्ले मे कोरोना पाजि़्टिव मरीज़ मिलने के बाद इस मोहल्ले को पूरी तरह से सेनेटाईज़ करा कर सील किया गया था हालाकि सील किए गए हाता संगीबेग मोहल्ले मे रहने वाले लोगो को उनकी ज़रूरत के सामान की आपूर्ति प्रशासन द्वारा लगातार कराई जा रही है।

एसीपी चाौक दुर्गा प्रसाद तिवारी ने बताया कि केजीएमयू की स्टाफ नर्स मे कोरोना की पुष्टि के बाद स्वाथ्य विभाग की टीम के द्वारा मोहल्ले मे पहुॅच कर अन्य लोगो के सैम्पल लिए गए है उन्होने बताया कि फिलहाल इस मोहल्ले को सील नही किया गया है क्यूकि रिपोर्ट अभी आनी बाकी है।

आपको बता दे कि पुराने लखनऊ के चैक थाना क्षेत्र मे आने वाले ये दोनो मोहल्ले मुस्लिम बाहुल्य मोहल्ले है अब रमज़ान का पवित्र महीना प्रारम्भ हो गया है ऐसे समय मे अगर चाौक थाना क्षेत्र का एक और मोहल्ला हाट स्पाट घोषित करके सील किया जाता है तो इस मोहल्ले मे रहने वाले लोगो को रमज़ान के महीने मे कठनाईया उठानी पड़ सकती है।

हाता संगीबेग और कटरा आज़म बेग मोहल्ला आमने सामने है इन दो मोहल्लो के बीच मुख्य सड़क है । देखने मे ये आया है कि 33 दिनो के लाक डाउन मे ऐसे मोहल्ले जहां की आबादी ज़्यादा है वहा लाक डाउन का उलंघन भी हुआ है और कोरोना वायरस की क्यूकि अभी कोई दवा नही है इस लिए इस घातक बीमारी से बचाव के लिए सामाजिक दूरी और साफ सफाई ही विकल्प है,लेकिन सरकार और प्रशासन द्वारा लोगो को जागरूक करने की लाख कोशिशो के बावजूद कुछ लोग इस घातक वायरस के खतरे को हलके मे ले रहे है।

हालाकि कोरोना वायरस को हल्के मे लेने वाले नासमझ लोगो की सख्ंया बहोत कम है लेकिन किसी भी मोहल्ले मे कोरोना वायरस को पैर पसारने के लिए एक नासमझ ही काफी है ऐसे मे ज़रूरत है खुद जागरूक रहने की और अपने आस-पास के रहने वाले लोगो को जागरूक करने की । कोरोना वायरस ऐसा न दिखने वाला वायरस है जो न तो अमीरी गरीबी देखता है ना जात पात धर्म देखता है ये वायरस ऐसा वायरस है जिसने चन्द महीनो मे एक शहर नही एक प्रदेश नही एक देश नही बल्कि पूरे विश्व को अपनी चपेट मे ले लिया है।

इन्स्पेक्टर चाौक विश्वजीत सिंह ने बताया कि सैम्पलो की जाॅच रिपोर्ट आने के बाद रिपोर्ट भेजी जाएगी रिपोर्ट जाने के बाद ये तय होगा कि इस इलाके को सील करने की आवश्यकता है या नही। (सदफ हसन की रिपोर्ट)

Check Also

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए चारो जनपद में चल रहा चेकिंग अभियान, SSP गोरखपुर खुद सड़क पर उतरे

उत्तर प्रदेश: पुलिस कर्मियों का हत्यारा अभी भी फरार, दुर्दांत अपराधी विकास दुबे अभी भी …