कोरोना वायरस: लॉकडाउन से आ सकती ही भारत में भुखमरी, भारत में 40 करोड़ मजदूर हो जायेंगे गरीब

नई दिल्ली: कोरोना वायरस की वजह से भारत में करीब 40 करोड़ लोगो पर गरीबी के बादल मडरा रहे है। वही अनुमान के मुताबिक, इस साल दुनिया भर में 19.5 करोड़ लोगों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ सकता है। यह जानकारी संयुक्त राष्ट्र के श्रम निकाय ने दी है।

मंगलवार को आईएलओ के महानिदेशक गाय राइडर ने कहा की, ‘‘विकसित और विकासशील दोनों अर्थव्यवस्थाओं में श्रमिकों और व्यवसायों को तबाही का सामना करना पड़ रहा है। हमें तेजी से, निर्णायक रूप से और एक साथ कदम उठाने होंगे.”

रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना वायरस महामारी से पहले ही अनौपचारिक क्षेत्र के लाखों लोगो की नौकरिया ख़त्म हो चुकी है। आईएलओ ने कहा, ‘‘भारत, नाइजीरिया और ब्राजील में लॉकडाउन और अन्य नियंत्रण उपायों से बड़ी संख्या में अनौपचारिक अर्थव्यवस्था के श्रमिक प्रभावित हुए हैं.”

रिपोर्ट में इस बात का भी खुलासा है, “भारत में अनौपचारिक अर्थव्यवस्था में काम करने वालों की हिस्सेदारी लगभग 90 प्रतिशत है, इसमें से करीब 40 करोड़ श्रमिकों के सामने गरीबी में फंसने का संकट है।”

आईएलओ के महानिदेशक ने कहा, ‘‘यह पिछले 75 वर्षों के दौरान अंतरराष्ट्रीय सहयोग के लिए सबसे बड़ी परीक्षा है। यदि कोई एक देश विफल होगा, तो हम सभी विफल हो जाएंगे. हमें ऐसे समाधान खोजने होंगे जो हमारे वैश्विक समाज के सभी वर्गों की मदद करें, विशेष रूप से उनकी, जो सबसे कमजोर हैं या अपनी मदद करने में सबसे कम सक्षम हैं।” इसके अलावा रिपोर्ट में यह भी कहा गया है की सबसे ज्यादा नौकरियाँ अरब देशों में जाएगी। इसके अलावा देश में इस समय लोग भुखमरी की कागार पर हैं। अगर अगले कुछ दिनों में चीज़ें सही नहीं की गयी तो भुखमरी की ख़बरें आनी शुरू हो सकती है।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …