रफ्तार से चल रही जिंदगी पर लगा कोरोना का ” डिस्क ब्रेक”

किसी फिल्म का गीत क्या से क्या हो गया देखते-देखते मौके के हालात पर सटीक बैठ रहा है। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस को रोकने के लिए इस समय लॉक डाउन 5.0 और अनलॉक 1.0 ने देश में नजर नजारा और नजरिया ही बदल दिया है।

सब कुछ बदल गया है।शहर छोड़ आए परदेशियों ने शहर को वीरान कर दिया है लेकिन इस समय गांव गुलजार हो गए हैं।कोरोनो महामारी ने जहाँ एक तरफ जिंदगी की रफ्तार पर ब्रेक लगाई है वही इस समय प्रदर्शन और अनुष्ठान भी बंद नजर आ रहे हैं।

लॉक डाउन5.0 और अनलॉक 1.0 बदलाव के साक्षी रहे हैं। मंदिर और मस्जिद बंद है धार्मिक आयोजन नही हो रहे है, हालांकि गृह मंत्रालय ने एडवाइजरी जारी कर 8 तारीख से सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मंदिर मस्जिद और गुरुद्वार खोलने के लिए कहा है लेकिन 60 दिनों से अधिक से बंद सभी धार्मिक स्थलों ने सब कुछ वीरान सा हो गया है।कोई अनुष्ठान नही हो रहे हैं।धरना प्रदर्शन का दौर भी समाप्त हो गया है।कोरोना ने धर्म और कर्म सारे कार्यक्रम पर ग्रहण लगा दिया है।

– बदल गई अब घरों की रौनक

पहले गांव के घरों में ताला और शहरों में आशियाना हुआ करता था लोग बड़े महानगरों में रहकर दो वक्त की रोटी का इंतजाम करते थे।इस लॉक डाउन के वजह से बाहर से आए परदेशी अपने बच्चों और घर के बुजुर्गों के साथ समय बीता रहें है।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …