Coronavirus, केवल 10 सेकंड सांस रोककर पता लगाएं कि, कोरोनावायरस है या नहीं

दुनियाभर में कोरोना अपना कहर दिखा रहा है, जिससे लगभग 6000 से अधिक मौते हो चुकी है। जितनी तेज़ी से ये बीमारी दुनिया में फैलती दिखाई दे रही है, उतनी ही तेज़ी से इससे जुड़ी अपवाहें भी फ़ैल रही है। फेसबुक और व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया प्लेटफोर्म पर कोरोना वायरस के इलाज, बचने के उपाय, जांच, खान-पान से लेकर दवाइयां तक बताई जा रही है। लेकिन कोरोनावायरस की कोई दवा या वेक्सीन अभी तक तैयार नहीं हुआ है।

वहीं ये भी बतया जा रहा है कि, अगर आप कोरोनावायरस की जांच करना चाहते हैं तो आप 10 सेकंड तक अपनी सांस रोक कर खुद घर ही जांच कर सकते हैं। लेकिन इस बात में कितनी सच्चाई है? चलिए जानते हैं। ताइवान के कुछ एक्सपर्ट के मुताबिक, ‘एक गहरी सांस लें और 10 सेकंड तक रोककर रखें। अगर आप बिना खांसी या जकड़न के 10 सेकंड तक अपनी सांस रोकने में कामयाब रहते हैं तो फेफड़ों में फाइब्रोसिस नहीं होता है। इसका मतलब यह है कि आपके शरीर में कोई संक्रमण नहीं है।

स्नोपेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, जब फेफड़ों की क्षमता कम हो जाती है, तो सांस को रोकना मुश्किल हो जाता है। ये कोई वैज्ञानिक धारणा भी नहीं है कि 10 सेकंड तक सांस रोकने से स्वास्थ्य संबंधी खतरे की पहचान की जा सकती है। कई अन्य कारणों के वजह से भी आप अपनी साँसे नहीं रोक सकते हैं। जिसमें एलर्जी, अस्थमा, पुरानी बीमारी और संक्रमण शामिल हैं। सांस की किसी भी जांच में 10 सेकंड के लिए सांस रोकने का उपाय शामिल नहीं है।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …