COVID-19 नेगेटिव रिपोर्ट के बिना दिल्ली में नहीं मिलेगी एंट्री, 5 राज्यों से आने वाले लोगों पर 15 मार्च तक रहेगा लागू

COVID-19 नेगेटिव रिपोर्ट के बिना दिल्ली में नहीं मिलेगी एंट्री, 5 राज्यों से आने वाले लोगों पर 15 मार्च तक रहेगा लागू

पुलिस I प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credits: Twitter)

नई दिल्ली: महाराष्ट्र (Maharashtra) समेत देश के कुछ अन्य राज्यों में कोविड-19 (COVID-19) संक्रमण की रफ्तार बढ़ने से चिंता बढ़ गई है. हालांकि देश में कोविड के सक्रिय मामलों की संख्या 1.50 लाख से अभी भी नीचे है. कोरोना वायरस (Coronavirus) का प्रसार रोकने के लिए केंद्र और राज्य सरकारें तमाम कदम उठा रही है. इसी क्रम में दिल्ली (Delhi) सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और पंजाब के यात्रियों को 26 फरवरी से 15 मार्च तक दिल्ली में प्रवेश करने के लिए नेगेटिव कोविड टेस्ट लाना अनिवार्य कर दिया है. 72 घंटे तक पुरानी नेगटिव RT-PCR टेस्ट रिपोर्ट मान्य रहेगी.

कोविड-19 पर साप्ताहिक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ बलराम भार्गव ने बताया कि महाराष्ट्र और कुछ अन्य राज्यों में हाल में आई कोविड-19 के मामलों में तेजी का वायरस के म्यूटेंट स्ट्रेन एन440के और ई484क्यू के साथ कोई सीधा संबंध नहीं है. आईसीएमआर के महानिदेशक ने यह भी स्पष्ट किया कि वायरस के यह दोनों स्वरूप अन्य देशों में भी पाये गए हैं और भारत में विशेष रूप से पाये गए हैं ऐसा नहीं है.

उल्लेखनीय है कि वायरस के इन दोनों स्वरूपों का भारत के कुछ राज्यों में पहले भी पता चला था. वायरस के ई484क्यू स्वरूप का महाराष्ट्र में साल 2020 के मार्च के शुरुआती दिनों में और जुलाई में पता चला था. मई और सितंबर के बीच तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और असम में 13 विभिन्न अवसरों पर वायरस के एन440के स्वरूप से जुड़े मामले सामने आए थे. इसलिए महाराष्ट्र में हाल में कोरोना के बढ़े मामलों को इन रूपों से जोड़कर नहीं देखा जा सकता है.

आगे उन्होंने कहा कि वर्तमान स्थितियों की लगातार निगरानी की जा रही है. इस संबंध में जैसे ही आगे के वैज्ञानिक प्रमाण मिलेंगे, उन्हें साझा किया जाएगा. महाराष्ट्र सरकार में मंत्री संजय राठौड़ ने वाशिम में कोरोना नियमों का किया उल्लंघन, CM उद्धव ठाकरे ने अधिकारियों से मांगी रिपोर्ट

भारत में पिछले 24 घंटों में 13,742 नए दैनिक मामले दर्ज किए गए हैं, जबकि इसी दौरान ठीक होने वाले मामलों की संख्या 14,037 रही. इसने कुल सक्रिय मामलों में 399 मामलों की गिरावट दर्ज की गई. 104 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या  1,56,567 हो गई है. देश में कोरोना वायरस को मात देने वाले लोगों की संख्या 1,07,26,702 हो गई है.




Note- यह आर्टिकल RSS फीड के माध्यम से लिया गया है। इसमें हमारे द्वारा कोई बदलाव नहीं किया गया है।

Check Also

Bihar Board 9th Exam: बिहार बोर्ड की नौंवी की वार्षिक परीक्षा आज से, 15 लाख विद्यार्थी होंगे शामिल

बिहार बोर्ड की नौंवी वार्षिक परीक्षा शुक्रवार से शुरू होगी। प्रदेशभर से इस परीक्षा में 15 …