राजस्थान में गाय मंत्री भी नहीं बचा पाए अपनी कुर्सी, गाय पर जनता समझी बीजेपी की राजनीति

0
234
Loading...

राजस्थान: देशभर में गाय की राजनीति करने वाली बीजेपी को राजस्थान में भी हार का सामना करना पड़ा। जहाँ वसुंधरा सरकार ने अलग से गाय का मंत्रालय तक बयाना था। वही राजस्थान में गाय मंत्री ओटाराम भी अपनी सीट बचाने में कामयाब न हो सके। सिरोही विधानसभा से गाय पालन मंत्री ओटाराम देवासी तकरीबन 10 हजार वोटों से चुनाव हार गए। कांग्रेस से दो बार विधायक रहे चुके बागी निर्दलीय संयम लोढ़ा ने करीब 10 हजार वोटों से गाय मंत्री ओटाराम को हरा दिया। बता दें कि सिरोही विधानसभा सीट पर कुल 269,427 वोटर्स है। इनमें 140,627 पुरुष, 128,793 महिला और 5 ट्रांसजेंडर शामिल हैं। यहां मतदाता लिंगानुपात 91.58 फीसदी है।

गौरतलब है की देश में राजस्थान एक इकलौता प्रदेश है जहाँ वसुंधरा सरकार ने गाय पालन मंत्रालय बनाया था। वसुंधरा सरकार ने गोकशी को रोकने और गायो की स्थिति सुधारने के लिए इस मंत्रालय को बनाया था। क्यूंकि बीजेपी और वसुंधरा राजे सिंधिया ने पिछले चुनाव के समय घोषणापत्र में वादा किया था कि वे जितने पर गाय के लिए अलग मंत्रालय बनवाएंगे और जितने के बाद बनवाया भी।

पिछले चुनावों का रिजल्ट देखे तो 2013 में ओटाराम देवासी को 82098 वोट मिले थे और उन्होंने संयम लोढ़ा को 24439 वोटों के अंतर से मात दी थी। वही 2008 के विधानसभा चुनाव में ओटाराम को 56400 वोट मिले और संयम लोढ़ा को 47830 वोट मिले थे। जिसमे ओटाराम ने 8570 वोटों के अंतर से जीत दर्ज की थी।

देशभर में एक नज़र डाले तो कुछ महीनों के अंतराल में गाय के नाम पर कई हिंसक वाारदात सामने आई हैं। जैसे पहलू खान, अखलाक, सुबोध कुमार आदि शामिल है। ओटाराम खुद राजस्थान से गाय मंत्री हैं। लेकिन अपनी सीट नहीं बचा पाए। क्या लगता है की जनता अब गाय पर होने वाली राजनीति को समझने लगी।

Loading...