राजपथ पर आकर्षण का केंद्र बनेगा CRPF का खास नाइट विजन गॉगल्स, लादेन को मारने के लिए अमेरिकी नौसेना ने भी किया था इस्तेमाल

गणतंत्र दिवस के अवसर पर जब राजपथ से केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) की झांकी गुजरेगी तो दर्शकों के पास ताली बजाने के भरपूर मौके होंगे। ऐसा इसलिए कि परेड के दौरान सीआरपीएफ के जवान नाइट विजन गॉगल्स (NVG) के साथ करतब दिखा रहे होंगे। ये गॉगल्स वही हैं, जो अमेरिकी नौसेना के जवानों के द्वारा ओसामा बिन लादेन को खत्म करने के लिए चलाए गए ऑपरेशन में इस्तेमाल किया गया था।

सीआरपीएफ के सूत्रों ने दावा किया कि यह पहली बार होगा जब भारत का सबसे बड़ा केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल युद्धक गैजेट को प्रदर्शित करेगा। इस गॉगल्स को ‘किंग ऑफ नाइट विजन’ के रूप में भी जाना जाता है। इस साल राजपथ के परेड में सीआरपीएफ कमांडो की पहली झांकी के आकर्षण का केंद्र बनने की उम्मीद है।

विशेष रूप से सुसज्जित इस चश्मे से रात में कमांडो 120 डिग्री की दृष्टि से देख सकते हैं, जैसा कि नग्न आंखों से देखा जाता है। ये हल्के होते हैं और रात के ऑपरेशन के दौरान हेलमेट पर पहने जा सकते हैं।

सीआरपीएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “इस नाइट गॉगल्स का इस्तेमाल अमेरिकी नौसेना के जवानों सहित विभिन्न सैन्य बलों द्वारा किया जाता है। इसकी मदद से कमांडो बहुत आसानी से अंधेरे में भी आसानी से लक्ष्य को पहचान सकते हैं।” हालांकि, उन्होंने आगे कहा कि यह उसी प्रकार का गॉगल्स नहीं है जिसका उपयोग अमेरिकी नौसेना एसईएल द्वारा किया गया था।

पूर्व अमेरिकी SEALs के मुख्य विशेष युद्ध संचालक मैट बिस्सोनेट ने अपनी पुस्तक “नो ईज़ी डे” में काले चश्मे से दृश्य को “टॉयलेट पेपर ट्यूबों के माध्यम से देखने” के रूप में वर्णित किया।

गॉगल्स के अलावा, CRPF गणतंत्र दिवस परेड में गनशॉट डिटेक्शन सिस्टम और हथियार माउंटर थर्मल दृष्टि जैसे कई अन्य उपकरणों का प्रदर्शन करने के लिए तैयार है। ।


Note- यह आर्टिकल RSS फीड के माध्यम से लिया गया है। इसमें हमारे द्वारा कोई बदलाव नहीं किया गया है।

Check Also

दिल्ली-NCR में सफर करने वालों के लिए बड़ी राहत, अलीगढ़, हाथरस और मथुरा रूट पर 1 मार्च से चलेंगी लोकल ट्रेनें

कोरोना वायरस की वजह से धीमी पड़ी रेल सेवा अब धीरे-धीरे पटरी पर अपनी गति …