दिल्ली: लॉकडाउन से बढ़ी प्रवासी मजदूरों की दिक्कते, यमुना किनारे पड़े सड़े हुए केले खाने को मजबूर

देश में लॉकडाउन बढ़ने से सबसे अधिक तक़लीफ़ दिहाड़ी मज़दूरों को हुई है, देश की राजधानी दिल्ली में इनका बुरा हाल देखने को मिल रहा है। दिल्ली के कश्मीरी गेट के पास हज़ारों प्रवासी मज़दूर यमुना के किनारे सोने के लिए मजबूर हैं, इनके हालात इस क़दर ख़राब हैं कि उन्हें सड़े केले तक खाने से कोई परेशानी नहीं हो रही है। दिल्ली के निगमबोध घाट पर यमुना किनारे पड़े केले के ढेर में प्रवासी मज़दूर ढूंढ रहे हैं कि कोई एक ठीक केला मिल जाए तो पेट को राहत मिले।

एक मजदूर ने बताया कि, ‘भैय्या क्या करें, खाना नहीं मिल रहा है तो केले ही खा लें.अलीगढ़ से हूं यहीं सो रहे हैं खाना नहीं आता केले से चल जाएगा.’ निगमबोध घाट से लेकर मजनू के टीले तक हज़ारों प्रवासी मज़दूर यमुना के किनारे सोते मिल जाएंगे. 55 साल के जगदीश कुमार जो कि बरेली के रहने वाले हैं, पुरानी दिल्ली में मज़दूरी करते थे लेकिन लॉकडाउन के चलते सब बंद है, रहने के लिए जगह नहीं है और सड़क पर जाते हैं तो पुलिस मारती है. इसलिए यहीं यमुना किनारे पड़े हुए हैं. जगदीश ने बताया,’भैया दो दिन बाद खाना मिला है. यहीं मज़दूरी करता था. अब यहीं फ़ंसा हूं.’

यमुना किनारे जगदीश के साथ हज़ारों मज़दूर शनिवार को निगमबोध के रैन बसेरे जल जाने के बाद ऐसे ही लॉकडाउन के दिन गिन रहे है। मीडिया में जब ये ख़बर आई तो दिल्ली सरकार ने इन प्रवासी मज़दूरों को स्कूलों में शिफ़्ट किया है।

दिल्ली सरकार की ओर से विपिन रॉय ने कहा, ‘यहां हज़ारों मज़दूर हैं. हम इन्हें स्कूलों में ले जा रहे हैं जो शेल्टर होम बनाए गए हैं.’ अब सवाल यही है कि अगर सरकार सही समय पर जागे तो इन प्रवासी मज़दूरों को सड़े केले न खाने पड़ें . जानवरों के साथ सोना न पड़े. सवाल सरकारों पर ही है कि क्या वे वाक़ई इन मज़दूरों का पेट भरने में सक्ष्म हैं?

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …