फर्जी लेफ्टिनेंट कर्नल अरविंद मिश्रा गिरफ्तार, ISI के लिए जासूसी कर रही पत्नी की पुलिस को तलाश

0
147

फर्जी लेफ्टिनेंट कर्नल बनकर जालसाजी करने वाले अरविंद मिश्रा को मिलिट्री इंटेलीजेंस और यूपी एटीएस के अफसरों ने गुरुवार को गिरफ्तार करके हजरतगंज कोतवाली में एटीएस और आईबी ने करीब पांच घंटे तक पूछताछ की। जिसमे अरविंद मिश्रा ने कई चौकाने वाले खुलासे किये।

अरविंद ने गहन पूछताछ में बताया की उसकी कश्मीरी पत्नी हीना जमवाल का ताऊ ISI जासूस था। वह भारतीय सेना में ऊंचे पद पर था। सेना की गुप्त सूचनाएं ISI को देने के आरोप में उसका कोर्ट मार्शल हो चूका है। यह अहम जानकारी का खुलासा होने पर जांच एजेंसियो की टीम अरविंद की पत्नी हिना के तलाश में जम्मू निकल गयी है।

जानकारी के अनुसार, हीना जमवाल को शादी करने के बाद बहराईच आने पर पता चला की अरविंद कोई सेना का अफसर नहीं है बल्कि जालसाज है। हिना ने बहराईच थाने ने अरविंद के खिलाफ धोखे से शादी करने, प्रताड़ना और दहेज उत्पीड़न का एफआईआर दर्ज करवाया।

लखनऊ हजरतगंज सीओ अभय कुमार मिश्रा ने बताया कि अरविंद मिश्रा को आर्मी इंटेलिजेंस की सूचना पर हजरतगंज पुलिस व साइबर क्राइम सेल की जॉइंट टीम ने बुधवार सुबह लालबाग से गिरफ्तार किया। पूछताछ में पता चला की अरविंद मूल रूप से बहराइच की कानूनगो कालोनी का रहने वाला है। जिसके पिता शिक्षा विभाग में बाबू थे। अरविंद पढ़ाई में काफी होनहार था और सैन्य अधिकारी बनने की चाहत में अरविंद CDS की तैयारी भी कर रहा था। साल 2003 तक एग्जाम में कामयाब नहीं होने पर उसने सेना की वर्दी खरीदी और फर्जी लेफ्टिनेंट कर्नल बनकर घूमने लगा। वह खुद को गोरखा रायफल्स में लेफ्टिनेंट कर्नल बताता था।

अरविंद से जांच एजेंसियों द्वारा लम्बी पूछताछ के बाद अदालत में पेश किया गया जहाँ से उसे जेल भेज दिया गया। जांच एजेंसियों को संदेह है कि अरविंद की पत्नी हीना भी ISI के संपर्क में है।

वही जांच एजेंसियों का कहना है की अरविंद की फर्जी फेसबुक प्रोफाइल देखने के बाद ही हनी ट्रैप में फंसाने के तहत हिना ने उससे चैटिंग शुरू की और बाद में दोनों ने शादी कर ली। अरविंद के जालसाज होने की सच्चाई जानने के बाद हीना ने उससे रिश्ता तोड़कर जम्मू चली गयी।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए आप इस लिंक को क्लिक करके हमारे फेसबुक पेज को लाइक कर सकते है

Loading...