पांच बेटियों के पिता को लॉकडाउन मे नही मिल पाया इलाज तोड़ा दम, फिर बेटियों ने ही पिता की अर्थी को कंधा देकर निभाया बेटों का फर्ज

देश में लागु कोरोना से जंग की वजह से लॉक डाउन के कारण एक शख्स को उचित इलाज मुहैया ना होने के वजह से उसकी जान चली गई। जिसके बाद व्यक्ति के परिवार वालों पर भारी संकट आ गया है। जान से हाथ धो बैठे व्यक्ति का नाम संजय कुमार था, जोकि थाना बन्नादेवी के नुमाइश मैदान के निवासी थे।

आपको बता दें कि देशभर में कोरोना वायरस के संक्रमण से लड़ने के लिए लॉक डाउन का एलान प्रधानमंत्री मोदी दवारा किया गया है जिसमे 14 अप्रैल तक सारे बाजार बंद रहेंगे। लेकिन काफी लोगों को लॉक डाउन की वजह से परेशानियां देखनी पड़ रही है। जिनमे संजय कुमार भी शामिल थे वह टीबी की बीमारी से पीड़ित थे। लेकिन लॉक डाउन के इस समय में उनको उचित इलाज नहीं मिल पाया था जिसके चलते शनिवार को उनकी जान चली गई।

संजय की 5 बेटियां थी और अपने पिता की मृत्यु के बाद इनके ऊपर दुखों का पहाड़ टूट गया है। और इस संकट के समय में इनकी बेटियों ने ही बेटों का फर्ज निभाते हुए अपने पिता की अर्थी को खुद कंधा देकर इनका अंतिम संस्कार किया है।

बताया गया है कि संजय कुमार भले ही गरीब थे लेकिन यह किसी के आगे नहीं झुके और ना ही इन्होंने किसी की सहायता मांगीं, यह काफी टाइम से टीबी की बीमारी से पीड़ित चल रहे थे लेकिन कुछ दिन पहले ही इनकी हालत कुछ ज्यादा ही खराब हो गई, लेकिन लॉक डाउन की वजह से इनको कोई भी डॉक्टर नहीं मिल पाया। इनके घर परिवार की आर्थिक हालत इतनी खराब थी कि इनकी चार बेटियों ने भी भी स्कूल जाना भी बंद कर दिया था। 5 बेटियों में से एक बेटी की शादी हो चुकी है।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …