अच्छी खबर: लिया गया निर्णय, इस दिन से पटरी पर दौड़ेगी ट्रेन, ये रहेगा यात्रा का तरीका..

देश में कोरोना संकट को रोकने के लिए पीएम मोदी द्वारा लगाए गए लॉकडाउन के बाद, 22 मार्च से सभी यात्री ट्रेन पैसेंजर के लिए बंद है। लेकिन अब वापस रेलवे दवारा ट्रेन चलाने की तैयारी शुरू कर दी है। जिसके लिए अंतर्गत कुछ सख्त नियम बनाए गए है। जिसका पालन करने के बाद ही यात्री अपनी सीट तक पहुंच पाएगा। रेलवे के अधिकारियों के मुताबिक आईआरसीटीसी इसके लिए तैयारी कर रहा है। पहली बार रेलवे ट्रेन चलाने के लिए टाइम टेबल को नहीं बदल रहा है।

दुनिया के साथ देश में भी कोरोना वायरस का प्रभाव हुआ है, जिसके लिए भारतीय रेलवे ने अपनी सभी यात्री ट्रेन को चलाना बंद कर दिया। इतना ही नहीं, रेलवे ने पहले 14 अप्रैल तक लॉकडाउन पार्ट वन के बाद 15 अप्रैल से यात्री टे्रन को चलाने की तैयारी शुरू की व आईआरसीटीसी ने ऑनलाइन रिजर्वेशन की शुरुआत की, लेकिन रेलवे ने ट्रेन को लॉकडाउन आगे बढऩे के बाद ट्रेन चलाने के बजाए जो रिजर्वेशन किए थे, उनको निरस्त करते हुए करोड़ों रुपए का रिफंड किया। इतना ही नहीं, अब नए रिजर्वेशन पर भी फिलहाल चुप्पी साध रखी है, लेकिन एक बार फिर आईआरसीटीसी ने ट्रेन चलाने की तैयारी शुरू कर दी है।

पत्रिका में छपी खबर के अनुसार, लेकिन आईआरसीटीसी व रेलवे के अधिकारी इस मामले में कुछ भी कहने से बचते दिखाई दे रहे है, लेकिन नाम नहीं प्रकाशन के आग्रह के साथ कहते है कि हमारी तैयारी ट्रेन चलाने को लेकर शुरू हो गई है। फिलहाल राजधानी, शताब्दी, अगस्त क्रांति राजधानी व दूरंतो स्तर की पैसेंजर ट्रेन को चलाया जाएगा। इन ट्रेन की खासियत यह है कि यह ट्रेन चुनिंदा रेलवे स्टेशन पर रूकती है। इसके अलावा इन ट्रेन के चलने के दौरान पेंट्रीकार को बंद रखा जाएगा। मतलब की यात्रियों को भोजन नहीं मिलेगा। लेकिन पेयजल की आपुर्ति मांगने पर की जाएगी। इतना ही नहीं, साथ बड़ी बात तो, यह है कि, यात्रा के कम से कम दो घंटे पहले रेलवे स्टेशन पर यात्री को आना होगा।

दो घंटे पूर्व आकर यात्री को स्वयं की व अपने साथ लाए गए लगेज की स्क्रीनिंग करवानी पड़ेगी। इसके अलावा जब यात्री प्लेटफॉर्म पर उतरेगा तो बाहर आने से पहले यात्री को एक बार फिर से अपनी स्क्रीनिंग करवानी पड़ेगी।

रेलवे के एक आला अधिकारी के मुताबिक मुंबई की लोकल सबरवन ट्रेन, दिल्ली की मेट्रो, रतलाम रेल मंडल में चलने वाली डेमू व मेमू स्तर की ट्रेन को फिलहाल चलाने की योजना नहीं है। लेकिन रेलवे मात्र उन ट्रेन को चलाएगा जिसमे महंगे दाम के टिकट होते है व यात्री लंबी दूरी की यात्रा करें। जैसे की नई दिल्ली से चलने वाली राजधानी एक्सपे्रस मुंबई सेंट्रल जाने के दौरान मात्र कोटा, रतलाम, बड़ोदरा व सूरत सहित बोरिवली स्टेशन पर रुकेगी।

हर साल भारतीय रेलवे 1 जुलाई को अपना नया टाइम टेबल लागू करती है। लेकिन इस बार यह प्रक्र्रिया नहीं होगी। इसकी वजह यह है कि जुलाई में बदले जाने वाले टाइम टेबल के लिए जनवरी – फरवरी माह से मंडल से लेकर पश्चिम रेलवे व रेलवे बोर्ड में वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक शुरू हो जाती है, इस बार इस प्रकार की एक भी बैठक नहीं हुई है। वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक रेलवे ने 21 जून तक निरस्त की गई सभी ट्रेन का रिफंड देने की बात की है। इसका मतलब साफ है कि अब रेलवे नए टाइम टेबल के बजाए पूर्व के टाइम टेबल के साथ ही १ जुलाई से ट्रेन को चलाएगा।

Check Also

बिहार में जेल से शराब सिंडिकेट चला रहे कुख्यात अपराधी, केस दर्ज होने के बाद कटघरे में जेल प्रशासन 

बिहार में शराबंदी को लेकर मामला फिर चर्चा में आ गया है। अभी एक्साइज एसपी …