कोरोना को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने बदली डिस्चार्ज पॉलिसी, कहा अब ऐसा दिखे तो कर सकते है डिस्चार्ज

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। मौजूदा हालात को देखते हुए केंद्र सरकार ने देशभर में लागू हुए लॉकडाउन को 17 मई तक बढ़ा दिया है। वही कोरोना मरीजों के डिस्चार्ज को लेकर केंद्र सरकार द्वारा नई गाइडलाइंस जारी की गई है।

स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी की गई नई पॉलिसी के अंतर्गत अब उन मरीजों को 10 दिनों के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया जाएगा। जिनमें कोरोना के कोई लक्षण नहीं दिखाई पड़ते हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी नई पॉलिसी में कहा गया है कि माइल्ड व मॉडरेट कोविड-19 मरीजों को बिना कोरोना टेस्ट के डिस्चार्ज किया जाएगा।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार, “स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय कोविद-19 मरीजों के लिए संशोधित दिशानिर्देश जारी करता है।” संशोधित दिशा निर्देशों में कहा गया है कि मरीजों को अस्पताल से डिस्चार्ज करने से पहले उन पर कोरोना टेस्ट करने की कोई जरूरत नहीं है।

लेकिन एहतियात के तौर पर अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद सलाह दी जाती है कि वे एक हफ्ते तक खुद को आइसोलेट करें और बताएं कि नियमों का सही से पालन करें। दूसरे कोरोना संक्रमित मरीजों की स्थिति देखने के बाद डॉक्टर्स फैसले लेंगे।

गौरतलब है कि देश में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 59 हजार को पार कर चुकी है जबकि 39,834 अभी भी एक्टिव केस है जिसमें से 17,846 लोग ठीक भी हो चुके हैं। अब तक 1,981 लोगों की कोरोना की वजह से मौत हो चुकी है।

Check Also

Cyclone Nisarga: मुंबई से 150 किलोमीटर दूर है ‘निसर्ग’ चक्रवाती तूफान, 120 KM घण्टे की रफ्तार पकड़ मचा सकता है तबाही

मुंबई: बुधवार 3 जून 2020 को महाराष्ट्र और गुजरात के समुद्री तट से टकराने वाले …