थाना जानकीपुरम विवाद में बदमाशों ने दुकान पर बैठे व्यक्ति को मारी गोली, मौके पर ही मौत

लखनऊ। राजधानी में बदमाशों का बोलबाला है। वा जब चाहते हैं जहां चाहते हैं घटना को अंजाम देने में नहीं हिचकिचाते हैं। इसकी बानगी गुरूवार रात लगभग आठ बजे गडरियनपुरवा गांव में देखने को मिली। जहां घर के बाहर बनी परचून की दुकान में बैठे व्यवसायी अवधेश कुमार अवस्थी (58) की बाइक सवार बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी।

फायर होने पर परिवार वाले बाहर निकले तो उन्होंने अवधेश को खून से लथपथ पाया। पुलिस को सूचना दी बगैर ही लगभग के अस्पताल ले गया था। डाक्टरों ने उन्हें ट्रामा ले जाने की सलाह दी। वहाँ पहुँचते ही अवधेश को डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। फायरन्स ने उन पर तीन गोलियां दागी थी। दाहिने कंधे व छाती में तीन गोलियां लगी थी। इकलौते बेटे ने अध्यायों को पहचान लिया है।

वे प्रापर्टी डीलर का उल्लेख कर रहे हैं। पुलिस ने 50 लाख के लेनदेन विवाद का मामला मानकर छानबीन में जुट गयी ।अवधेश कुमार अवस्थी, पत्नी, बेटे रोहित व बेटियों के साथ रहकर परचून की दुकान चलाने थे। इसके अलावा वे जमीन की खरीद-फरोख्त के धंधे में भी लगे हुए थे। उन्होंने आसपास कई जमीन का सौदा किया था। परिवार वालों की दुकान में बैठने के अलावा कभी-कभार वो भी बैठते थे।

पत्नी के घर में अंदर जाने के बाद अवधेश दुकान में बैठ गया। इसी दौरान एक बाइक से तीन लोग पहुंचे। पीछा बैठा शख्स उतर गया जबकि मोटरसाइकिल सवार दो बदमाशों ने ताथतोड़ फायरिंग कर अवधेश को लहुलुहान कर दिया। गोली की तड़तड़ाहट सुनकर लोग घरों से बाहर निकले। अवधेश के घर वाले भी बाहर आये तो उन्होंने उन्हें खून से लथपथ पाया। चीख-पुकार मचने पर पड़ोसियों की मदद से बेटा ट्रामा ले गया लेकिन तब तक काफी देर हो चुका था। बेटे ने अध्यायों में शेरू व कमलेश का नाम बताया है।

पुलिस रंजिश का मामला मानकर दोनों की तलाश शुरू कर दी। जानकीपुरम हत्याकांड में नामजद आरोपी शेर मोहम्मद हिरासत में, क्राइम ब्रांच ने घर से शेर मोहम्मद को लिया हिरासत में, जिन पर गोली चलाने का आरोप उन दोनों अन्य आरोपी के बारे पूछताछ में जुटी पुलिस । (शानू की रिपोर्ट)

Check Also

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए चारो जनपद में चल रहा चेकिंग अभियान, SSP गोरखपुर खुद सड़क पर उतरे

उत्तर प्रदेश: पुलिस कर्मियों का हत्यारा अभी भी फरार, दुर्दांत अपराधी विकास दुबे अभी भी …