इस देश में जबरन किया जाता था महिलाओं का खतना, अब सरकार ने बताया अपराध, करने वालो को 3 तीन साल की सजा

सूडान में अब महिलाओं के खतना को कानून जुर्म घोषित कर दिया गया है और सजा के तौर पर 3 साल की कैद का भी प्रावधान किया गया है। महिलाओं के खतना को दूसरी भाषा में फीमेल जेनिटल म्यूटिलेशन (FGM) कहा जाता है। वही सूडान में महिलाओं के हक की आवाज उठाने वाले संगठनों ने बताया कि यह एक नए युग की शुरुआत हुई है।

बता देगी विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के एक डाटा के मुताबिक, सूडान में 10 में से 9 महिलाएं खतना के बेइंतेहा दर्द से गुजरती हैं जो कि स्वास्थ्य के लिए काफी खतरनाक होता है। सूडान की सरकार ने अपने अपराधी कानून में संशोधन को हरी झंडी दे दी है जिसमें साफ तौर पर कहा गया है कि जो कोई भी महिलाओं का खतना करता पाया जाता है तो उसे 3 साल की सजा के साथ जुर्माना भी देना पड़ेगा।

वही महिला अधिकार संगठनों का कहना है कि फीमेल जेनिटल म्यूटिलेशन (FGM) को खत्म करने में सरकार के इस सजा से बल मिलेगा। हालांकि इन संगठनों का यह भी कहना है कि अभी भी लोगों की मानसिकता में बदलाव आना बहुत कठिन है क्योंकि लोग इसे एक पारंपरिक प्रथा के रूप में सदियों से मानते चले आ रहे हैं जिसे बेटियों की शादी के लिए निभाना आवश्यक है।

अफ्रीका में महिलाओं के अधिकारों के लिए आवाज उठाने वाली एक एनजीओ की क्षेत्रीय निदेशक फैजा मोहम्मद का कहना है कि सबसे ज्यादा महिलाओं का खतना सूडान में ही किया जाता है अब खतना करवाने वाले लोगों को निश्चित रूप से कानूनी सजा देनी चाहिए ताकि लड़कियों को इस बेहद बर्बरता से बचाया जा सके।

Check Also

पाकिस्तान में जजों के खिलाफ अपमानजनक बयान देना पड़ा भारी, एक न्यूज चैनल का लाइसेंस सस्पेंड

पाकिस्तान की मीडिया निगरानी संस्था ने न्यायाधीशों के खिलाफ ''अपमानजनक" टिप्पणी करने को लेकर एक …