यूपी में BJP के खिलाफ ब्राह्मणों ने विरोध प्रदर्शन कर कहा, वोट मांगने न आए, हो जायेगा कुछ गलत

0
122
Loading...

अखिल भारतीय ब्राम्हण महासभा ने अन्य 38 अगड़ी जातीय समूहों के साथ मिलकर यूपी में भाजपा के खिलाफ 2019 लोकसभा चुनाव से पहले मौर्चा खोल दिया है। ब्राम्हण महासभा के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की अगुवाई में सभी ने एससी /एसटी एक्ट में किए गए संशोधन के विरोध में जमकर प्रदर्शन भी किया।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के हजरतगंज में ब्राम्हण महासभा के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की अगुवाई में हुये विरोध प्रदर्शन में केंद्र सरकार से मांग की गई कि एससी /एसटी एक्ट में हुये संशोधन को तुरंत वापस लिया जाए और सुप्रीम कोर्ट के आदेश को लागू किया जाए, ताकि ऐसे मामलों में तुरंत गिरफ्तारी ना हो।

तिवारी ने कहा, भारतीय जनता पार्टी 85 फीसदी लोगों के साथ धोखा किया है और उन्हें इसका रिजल्ट भुगतना पड़ेगा। उन्होंने कहा की, हम अल्पसंख्यक आयोग, महिला आयोग और अनुसूचित जाति आयोग की तरह सवर्ण आयोग भी बनाया जाए। तिवारी ने ये भी कहा की जब तक भारतीय जनता पार्टी ख़त्म नहीं हो जाती तब तक ये विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। तिवारी ने कहा, RSS प्रमुख मोहन भगवत को मेंटल चेक अप कराने की सलाह दी। क्यूंकि लोगो की भावनाओ को समझ सके।

आपको बतादे की इससे पहले बाराबंकी जिले में, अगड़ी जातीय के लोगों ने गांव में पोस्टर लगाकर कहा था कि मंत्रियों को यहाँ नहीं आना चाहिए और वोट नहीं मांगना चाहिए। पोस्टर पर छपवाया था कि, अगर इस गांव में कुछ भी गलत होता है तो वे खुद इसके लिए ज़िम्मेदार होंगे।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए आप इस लिंक को क्लिक करके हमारे फेसबुक पेज को लाइक कर सकते है

Loading...