कोरोना से जंग में अमेरिका से आगे इंडिया, 5 लाख टेस्ट पर 21 हजार मरीज, अमेरिका में 5 लाख टेस्ट पर 80,000 मरीज

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने सरकार की ओर से दैनिक प्रेस वार्ता में बताया क‍ि, कोरोना वायरस की चुनौती को लेकर हमारा मूलमंत्र है जिंदगी कैसे बचाएं. जिसको लेकर हम टेस्टिंग बढ़ाने पर ध्यान दे रहे हैं। ICMR के अनुसार भारत में 5 लाख कोरोना टेस्‍ट किये गए जिसमे 21 हजार टेस्‍ट पॉजिटिव आए हैं। जबकि अमेरिका में 5 लाख टेस्‍ट पर 80 हजार लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है।

news18 में छपी खबर के अनुसार ICMR के निदेशक डॉ. सीके मिश्रा ने कहा कि, 23 मार्च तक हमने 14,915 टेस्‍ट किए और 22 अप्रैल तक हमने 5 लाख से अधिक टेस्‍ट किए हैं। अगर इसकी गणना की जाए तो यह 30 दिनों में लगभग 33 गुना होता है, हालांकि ये पर्याप्त नहीं है. इस देश में रैंप टेस्‍ट करने की आवश्यकता है.

ICMR ने बताया कि, हम कोरोना के ट्रांसमिशन में कटौती, कोरोना के प्रसार को रोकने और मामलों की संख्‍या डबल होने की दर को बढ़ने से रोकने में सक्षम हैं. हमने भविष्‍य के लिए खुद को तैयार करने के लिए इस समय का उपयोग किया है। आईसीएमआर दवारा कहा गया कि, आज लॉकडाउन का एक महीना पूरा हो गया है. हमने टेस्टिंग को कोरोना के खिलाफ हथियार के तौर पर इस्‍तेमाल किया है। हम लगातार टेस्टिंग की क्षमता बढ़ाने पर जोर दे रहे हैं, हालांकि हमारी रणनीति काम कर रही है.

आईसीएमआर ने आगे कहा कि लोगों को अस्‍पताल न आना पड़े यही हमारा लक्ष्‍य है। कोरोना डेडिकेटेड अस्‍पतालों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है, कोरोना के कुल 3,777 अस्पताल तैयार हैं. इसमें आइसोलेशन बेड 1,94,026 और 24,644 आईसीयू बेड हैं।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …