पूरी तरह तैयार होने को है भारत का सबसे बड़ा डिटेंशन सेंटर, एक साथ इतने लोगो का रखा जायेगा

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 22 दिसंबर को अपने एक भाषण में कहा था कि, भारत में कोई डिटेंशन सेंटर नहीं है। लेकिन उनके दवारा कहे गए इस झूठ पर विपक्षी दाल अड़ गए थे। और पीएम मोदी पर विपक्षी दलों ने कई तरह के आरोप लगये। लेकिन आपको बता दें कि राजनीतिक विवादों से अनजान श्रमिक असम में देश के सबसे बड़े डिटेंशन सेंटर को अंतिम रूप देने में जुटे हुए हैं। असम में करीब 25 बीघा में फैले इस डिटेंशन सेंटर को 46 करोड़ रूपये की लागत से गोलपाड़ा के मटिया में तैयार किया जा रहा है। यह गुवाहाटी से 129 किलोमीटर की दूरी पर है, जिसमे 3000 घरों के लोग रह सकते हैं।

इस प्रोजेक्ट पर काम कर रहे सीनियर वर्कर मुकेश बासुमैत्री ने बताया – “हम इस महीने काम को खत्म कर देते, लेकिन मॉनसून के चलते हमें इसे पूरा करने में देरी हो गई। मेरी चिंता इस बात को लेकर है कि कच्चा माल समय पर मिले ताकि हम समय पर काम पूरा कर पाएं।”

पीएम मोदी दवारा देश में डिटेंशन सेंटर नहीं है वाला बयान दिल्ली की रैली में नागरिकता कानून पर छिड़ी बहस के बीच आया था। जिसमें पड़ोसी मुस्लिम बहुल देश अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान से आए हिन्दुओं, सिख, ईसाई, पारसी और जैन को फौरन नागरिकता का प्रावधान है। पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस और उसके दोस्तों, जिनमें कुछ शहरी नक्सली भी शामिल हैं, वे सभी यह झूठ फैला रहे हैं कि सभी मुस्लिमों को डिटेंशन सेंटर्स भेज दिया जाएगा।

Check Also

अनलॉक 2: क्या खुलेगा, क्या रहेगा बंद, यहाँ जाने खुलकर

नई दिल्ली: मोदी सरकार ने अनलॉक-2 के लिए नई गाइडलाइन्स जारी कर दी है। जिसमे …