फंस चूका है निवेशकों का पैसा, MF इंडस्ट्री पर छाया कोरोना संकट, फ्रैंकलिन दवारा बंद की गई 6 स्कीम

अगर अपनी भी फ्रैंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड की स्कीम्स में निवेश किया हुआ है तो, आपके लिए यह एक बुरी खबर है। क्युकी, फ्रैंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड दवारा भारत में अपनी 6 स्कीम्स को बंद कर दिया गया है। इस इंडस्ट्री की टॉप कंपनी फ्रैंकलिन टेंपलटन ने कोरोना संकट के चलते ये फैसला लिया है।

आजतक में छपी खबर के अनुसार, शेयर बाजार को दी गई सुचना में फ्रैंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड ने यूनिट रिटर्न करने और बॉन्ड बाजार में लिक्विडिटी की कमी का हवाला दिया है। कंपनी ने कहा कि, ‘‘कोविड-19 संकट और भारतीय अर्थव्यवस्था के लॉकडाउन के चलते कॉरपोरेट बॉन्ड बाजार के कुछ हिस्से में लगातार नकदी में गिरावट आई है, जिससे निपटना जरूरी है. ऐसे में म्यूचुअल फंड, खासतौर से निश्चित आय कैटेगरी में, लगातार यूनिट वापस लेने के दबाव का सामना कर रहे हैं.’’ अगर आसान भाषा में समझें तो इस समय बड़े पैमाने पर पैसे की निकासी हो रही है.’’

फ्रैंकलिन टेंपलटन ने निवेशकों के निवेश को लॉक कर दिया है, जिसके कारण फिलहाल निवेशकों का पैसा फंसा चूका है। अनुमान लगाया जा रहा है कि निवेशकों के लगभग 28 हजार करोड़ रुपये अटक गए हैं। लेकिन कंपनी दवारा निवेशकों का पैसे सुरक्षित होने का दावा किया जा रहा है। बता दें कि फ्रैंकलिन टेंपलटन भारत के म्यूचुअल फंड उद्योग की 44 कंपनियों में से टॉप 10 में शामिल है। कुल एसेट अंडर मैनेजमेंट यानी एयूएम 11.6 लाख करोड़ रुपये है।

इस दौरान, बाजार नियामक सेबी ने म्यूचुअल फंड मूल्यांकन एजेंसियो से बताया कि, लॉकडाउन की वजह से ब्याज या मूल राशि के भुगतान या सिक्योरिटीज की मैच्योरिटी के विस्तार में विलम्ब को चूक नहीं माना जाए। आपको बता दें कि एसोसएिशन ऑफ म्यूचुअल फंड इन इंडिया (एएमएफआई) मूल्यांकन एजेंसियों की नियुक्ति करता है, ये एजेंसियां मुद्रा बाजार और कर्ज सिक्योरिटीज का मूल्यांकन करती हैं और सिक्योरिटीज के चूक की बात को सामने लाती हैं।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …