जमात-ए-इस्लामी संगठन के 70 बैंक खाते सीज, 4 दिन में 200 से ज्यादा लोग गिरफ्तार

0
282
photo credit:ANI
Loading...

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फ़रवरी को हुए आतंकी हमले के बाद से मोदी सरकार हरकत में आ गई है। इसी क्रम में केंद्र सरकार ने अलगाववादी संगठन जमात-ए-इस्लामी जम्मू-कश्मीर को राष्ट्र विरोधी और विध्वंसकारी गतिविधियों के चलते गैरकानूनी गतिविधि अधिनियम के तहत बैन कर दिया है।

अब केंद्र सरकार संगठन जमात-ए-इस्लामी पर अनलॉफुल ऐक्टिविटी प्रिवेन्शन ऐक्ट (UAPA) के तहत कार्रवाई कर रही है। खबरों के अनुसार, केवल श्रीनगर में संगठन के जुड़े 70 बैंक खातों को सील कर दिया गया है। संगठन जमात-ए-इस्लामी पर कार्रवाई के दौरान कई बड़े नेताओं को गिरफ्तार किया गया है।

मिली जानकारी के अनुसार, इस संगठन से जुड़े 200 से अधिक सदस्‍यों को गिरफ्तार किया जा चूका है। वही संगठन जमात-ए-इस्लामी पर कार्रवाई कर रहे अधिकारियों ने बताया की इस संगठन के पास 4,500 करोड़ रुपये की संपत्ति होने का अंदेशा है। हालांकि यह लीगल है या ग़ैरक़ानूनी इस बारे में जांच के बाद ही खुलासा होगा।

खबर के अनुसार, पिछले 4 दिन में 200 से ज्यादा जमात-ए-इस्लामी जम्मू-कश्मीर संगठन के नेताओं और कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है। वहीं केंद्र सरकार द्व्रारा संगठन जमात-ए-इस्लामी जम्मू-कश्मीर पर हो रही कार्रवाई को पीडीपी की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने शुक्रवार को मोदी सरकार के फैसले की निंदा करते हुए कहा यह जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक मुद्दे से बाहुबल से निपटने की केंद्र सरकार की पहल का एक दूसरा मिसाल है।

इससे पहले इस संगठन पर जम्मू-कश्मीर सरकार ने 1975 में 2 साल के लिए प्रतिबंध लगाया था। और दूसरी बार केंद्र सरकार ने अप्रैल 1990 में 3 साल के लिए बैन लगाया था। जब केंद्र सरकार ने 3 साल के लिए बैन किया था तब मुफ्ती मोहम्मद सईद केंद्रीय गृह मंत्री थे।

Loading...