हर साल 7 मार्च को मनाया जाता है जन औषधि दिवस, जेनेरिक दवाओं को लेकर PM मोदी ने जनता को किया जागरूक

नई दिल्ली: जन औषधि दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि देशभर में 6200 औषधि केंद्रों पर बीमारियों का इलाज किया जा रहा है। इन केंद्रों पर मरीजों को न केवल दवा दी जाती है बल्कि सभी तरह के जरूरी संसाधन भी उपलब्ध है। प्रधानमंत्री ने बताया कि देश में 1 मार्च से लेकर 7 मार्च तक जन औषधि दिवस के रूप में मनाया जाएगा।

उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि देशभर में 728 जिलों में से 700 जिलों में औषधि केंद्र को शुरू किया गया है। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जन औषधि योजना की शुरुआत 1 जुलाई 2015 में की थी। जन औषधि योजना के अंतर्गत उच्च गुणवत्ता वाली जेनेरिक दवाओं को बाजार मूल्य से कम दाम पर दी जाती है।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार, प्रधानमंत्री भारतीय जनधन योजना के लाभार्थियों के साथ बातचीत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की, “जनौषधि दिवस केवल एक योजना मनाने का दिन नहीं है, बल्कि लाखों परिवारों, लाखों परिवारों के साथ जुड़ने का दिन है, जिन्हें इस योजना के कारण बड़ी राहत मिली है।”

शनिवार को जन औषधि केंद्र पर जनता को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधित किया। मोदी के संबोधन को यूपी के 900 जन औषधि केंद्रों के अलावा देश के 6200 केंद्र पर भी सुनाया गया। बता दे की केंद्र सरकार द्वारा ‘जन औषधि स्टोर’ बनाए गए हैं यहां पर जेनेरिक दवाइयां उपलब्ध रहती हैं जेनेरिक दवाइयां ब्रांडेड दवाइयों के मुकाबले सस्ती होती हैं और उन्हीं दवाइयों के जैसा ही प्रभाव होता है।

देश की जनता को जागरूक करने के लिए जन औषधि अभियान की शुरुआत की गई थी। जिससे कि जनता समझ सके कि ब्रांडेड दवाई की तुलना में जेनेरिक दवाइयां कम दामों पर बाजार में उपलब्ध है और उनकी गुणवत्ता में हमें भी कोई कमी नहीं है।

Check Also

चीन से होगी आज अहम बातचीत, TikTok सहित 59 ऐप्‍स बैन लेकिन PAYTM, VIVO, OPPO बैन क्यों नहीं

प्रधानमंत्री आज देश को छठी बार संबोधित करने वाले हैं, जानिए कि चीन की 59 …