फिर बच निकला जैश चीफ मसूद अजहर, चौथी बार चीन ने लगाया अड़ंगा, नहीं बन पाया वैश्विक आतंकी

0
707
Loading...

एक बार फिर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का मुखिया मसूद अजहर वैश्विक आतंकी घोषित नहीं हो पाया। चीन ने हमेशा की तरह इस बार भी वीटो पावर का इस्‍तेमाल करते हुए मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित होने से बचा लिया। अपने जवाब ने चीन ने कहा, आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्‍मद का मसूद अजहर से आपस में कोई रिश्ता नहीं है।

बतादे की भारत पिछले 10 साल से लगातार मसूद अजहर को वैश्‍विक आतंकी घोषित करने की मांग कर रहा है। वही चीन ने अपनी पुरानी दलील को दोहराते हुए कहा था की, मसूद अजहर के खिलाफ ऐसे कोई सबूत सामने नहीं आये जिससे पता चले की मसूद अजहर आतंकी संगठन को ऑपरेट करता है।

मसूद अजहर के वैश्विक आतंकी घोषित नहीं होने पर विदेश मंत्रालय ने कहा कि हमारी लड़ाई आगे भी जारी रहेगी। भारत में किये गए कई आतंकी हमलों में मसूद अजहर शामिल रहा है। विदेश मंत्रालय ने आगे कहा कि मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने तक हम हर संभव रास्ता तलाश करेंगे।

आपको बतादे की आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में मसूद अजहर के खिलाफ अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन जैसे शक्तिशाली देशो ने प्रस्ताव दिया था।

अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन ने 15 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की प्रतिबंध समिति से मसूद अजहर पर सभी तरह की रोक लगाने की माँग की गई थी। प्रस्ताव में शामिल मसूद अजहर पर हथियारों के बिज़नेस, वैश्विक सफर से जुड़े प्रतिबंध लगाने के साथ उसकी प्रापॅर्टी भी जब्त करने की मांग की गयी थी। लेकिन चीन ने सोमवार को मसूद अज़हर पर अपना पक्ष रखते हुए कहा था कि इस मामले पर बातचीत के ज़रिए ही इसका ‘जिम्मेदार समाधान’ निकाला जा सकता है।

बतादे की 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 से ज्यादा जवान शहीद हुए थे। इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी जैश ने ली थी। जिसके बाद भारतीय वायुसेना ने कार्यवाई करते हुए पाक के बालाकोट स्‍थ‍ित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्‍मद के कैंप को तबाह कर दिया था। जिसके बाद आतंकवाद पर पूरी दुनिया ने भारत का समर्थन किया था।

Loading...