JNU छात्रों ने यूनिवर्सिटी की काटी बिजली, एग्जाम रजिस्ट्रेशन रुका, प्रशासन ने कहा- छात्रों ने अब पार की सारी हदें

नई दिल्ली: हॉस्टल फीस बढ़ोतरी के विरोध में 2 महीने से जेएनयू विश्वविद्यालय में विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्रों द्वारा विश्वविद्यालय के अंदर जबरन बिजली काट देने से परीक्षा के रजिस्ट्रेशन काम में बाधा डालने का मामला सामने आया है।

जेएनयू प्रशासन ने शुक्रवार को बताया कि कुछ छात्र चेहरे पर रुमाल बांधे जबरन बिजली काट दी। जिसकी वजह से सेमेस्टर एग्जाम की रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया रुक गई है। वहीं प्रशासन ने चेतावनी दी है कि ऐसे छात्रों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

हॉस्टल फीस बढ़ाए जाने के विरोध में यूनिवर्सिटी के कामकाज को प्रभावित करने वाले छात्रों ने परीक्षा रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया का बहिष्कार करने का फैसला किया है। इस मामले पर यूनिवर्सिटी प्रशासन ने कहां है कि 3 जनवरी शुक्रवार को लगभग 1 बजे चेहरा छुपाए छात्रों के समूह ने जबरन सेंटर फॉर इनफार्मेशन सिस्टम के कार्यालय में घुसकर बिजली काट दी।

कार्यालय में सभी कर्मचारियों को जबरन बाहर निकालकर सरवर को बंद कर दिया। जिससे रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया रुक गई है। गौरतलब है कि जेएनयू विश्वविद्यालय की वार्षिक रिपोर्ट 2017-18 में यह जानकारी दी गई है कि विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले 40 फ़ीसदी विद्यार्थी ऐसे हैं जिनके परिवार की इनकम 12 हजार रुपये प्रति महीने से भी कम है ऐसे में फीस बढ़ोतरी की वजह से 40 फ़ीसदी छात्र अपनी पढ़ाई अधर में ही छोड़नी पड़ेगी।

जेएनयू छात्रों ने एचआरडी मिनिस्टर रमेश पोखरियाल को इस बात की जानकारी दी थी। हालाँकि सरकार ने हॉस्टल फीस मामले में कुछ रियायत जरूर दी थी लेकिन जेएनयू के छात्र इससे सहमत नहीं है जिसकी वजह से छात्र प्रदर्शन उग्र हो रहे हैं।

Check Also

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए चारो जनपद में चल रहा चेकिंग अभियान, SSP गोरखपुर खुद सड़क पर उतरे

उत्तर प्रदेश: पुलिस कर्मियों का हत्यारा अभी भी फरार, दुर्दांत अपराधी विकास दुबे अभी भी …