युवा दिवस पर जानिए स्वामी विवेकानंद से जुड़ी कुछ रोचक बातें

कोलकाता में 12 जनवरी 1863 को रूढ़िवादी हिंदू परिवार में जन्मे स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन को युवा दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। तो आइए उन से जुड़े कुछ रोचक बातों के बारे में आज जान लेते हैं।

स्वामी विवेकानंद की मां ने उनका नाम वीरेश्वर रखा था और उन्हें प्यार से बिली कहकर बुलाते थे। लेकिन बाद में उनका नाम बदलकर नरेंद्रनाथ दत्त हो गया था। पिता की मृत्यु के बाद स्वामी विवेकानंद के परिवार को बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ा था।

जिसकी वजह से खेत्री के महाराजा अजीत सिंह विवेकानंद की माता जी को आर्थिक सहायता के रूप में 100 नियमित रूप से भेजते थे। स्वामी विवेकानंद को 31 बीमारियाँ थी।

स्वामी विवेकानंद पहले ही भविष्यवाणी कर दी थी कि वह 40 साल से ज्यादा जीवित नहीं रह सकते। 4 जुलाई 1902 को स्वामी विवेकानंद की मृत हो गई थी उस समय वह 39 साल के थे।

एक बार की बात है जब स्वामी विवेकानंद विदेश गए तो उनके स्वागत के लिए कुछ लोग उपस्थित हुए। उस समय उन लोगों ने विवेकानंद की तरफ हाथ बढ़ाते हुए इंग्लिश में हेलो कहा। लेकिन तब स्वामी विवेकानंद ने दोनों हाथ जोड़कर नमस्ते कहा था तब वह लोग समझे कि हो सकता है की स्वामी जी को इंग्लिश ना आती हो तो उन लोगों में से एक ने पूछा ‘आप कैसे है’ तब स्वामी जी ने कहा था ‘आई एम् फ़ाईन थैंक यू’

वहाँ मौजूद सभी लोग हैरान रह गए और स्वामी जी से पूछा कि जब हमने आपसे इंग्लिश में हेलो कहा तो अपने हाथ जोड़कर नमस्ते कहा जब हमने हिंदी में पूछा तो आपने इंग्लिश में जवाब दिया इसका क्या कारण है?

तब स्वामी जी ने उत्तर देते हुए कहा कि जब आप अपनी मां का सम्मान कर रहे थे तब मैं अपनी मां का सम्मान करना था और जब आपने मेरी मां का सम्मान किया है तब मैंने आपकी माँ का सम्मान किया। यह बात सुनकर स्वामी विवेकानंद के स्वागत के लिए आए लोग काफी खुश हुए।

Check Also

अनलॉक 2: क्या खुलेगा, क्या रहेगा बंद, यहाँ जाने खुलकर

नई दिल्ली: मोदी सरकार ने अनलॉक-2 के लिए नई गाइडलाइन्स जारी कर दी है। जिसमे …