झंडे के रंग से नहीं मार्च को किसानों की रंगत से देखिए- रविश कुमार

0
38

किसान मार्च में सबको एक ही रंग दिखा। एक ही रंग की राजनीति दिखी। लेकिन दो सौ संगठनों के इस मार्च में झंडों के रंग भी ख़ूब थे। योगेन्द्र का स्वराज इंडिया पीला-पीला हो रहा था तो राजू शेट्टी का शेतकारी संघटना हरा और सफ़ेद लहरा रहा था। तेलंगाना रैय्य्त संघ का झंडा हरा था। तमिलनाडु के जो किसान निर्वस्त्र होकर प्रदर्शन कर रहे थे उनका झंडा और गमछा हरा था। सरदार वी एम सिंह का राष्ट्रीय किसान मज़दूर संगठन लाल सफ़ेद और हरे रंग के झंडे के साथ आगे चल रहा था।

आसमानी रंग का भी झंडा देखने को मिला। देश के कई इलाक़ों से आए किसान सिर्फ लाल या हरा झंडा लेकर नहीं आए। वहाँ किसी को एक रंग का प्रभुत्व दिखता होगा मगर कई तरह की बोलियाँ थीं। वैसे लोग थे जो सोशल मीडिया और टीवी के ज़माने में दिखने वालों के जैसे नहीं लगते थे। बहुत से ऐसे थे जो हममें से कइयों से हाल फ़िलहाल के अतीत की तरह नज़र आ रहे थे। समस्याओं का अंबार लगा था। हर समस्या को सुनकर दिलो दिमाग़ में लाल बत्ती ही जलती थी। लाल बत्ती कम्युनिस्ट नहीं होती। ख़तरे का निशान कम्युनिस्ट नहीं होता। एक किसान से पूछा तो कहा कि जब भी हम भू अधिग्रहण के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ते हैं तो लाल पार्टी ही आती है। हम तो उन्हें वोट भी नहीं देते मगर आते वही हैं। अब कोई आता नहीं तो हम किसान सभा का झंडा लेकर आए हैं। सवाल है कि इन चार सालों में मुख्यधारा की किस पार्टी ने किसानों की लड़ाई लड़ी है? इसमें कुछ दलों के झंडे नहीं थे। कांग्रेस, भाजपा, सपा, बसपा, रालोद, राजद, जदयू, आप, तृणमूल, अकाली। क्या किसान इन्हें वोट नहीं देते हैं? इन्हीं को तो देते रहे हैं।

किसान रैली में दो छात्र मिले जो पहली बार किसी रैली में आए थे। झाँसी से एक छात्र तो अपने पिता के साथ आया था। दोनों ने पहली बार एक रैली में शिरकत की है। एक दिल्ली का ही है जिसने कहा कि उसे बहुत अच्छा लगा और अब से वह रैलियों में जाया करेगा। सुधा महाजन अपने पति के साथ थक कर बैठे किसानों को चिक्की बाँट रही थीं। कई किलोमीटर चलने से उन्हें भूख तो लग ही गई थी। शहर के लोगों को जब बात समझ आ जाती है तो वे लोगों से जुड़ने लगते हैं।समाज संवेदनशील होने लगता है। कई लोगों को देखा जो खाने पीने का सामान लेकर आए थे।

सबसे अच्छा लगा बैंकरों का किसानों के पक्ष में आगे आना। बक़ायदा उनके संगठन ने किसान मार्च के समर्थन में बैनर लगाए थे। पानी और बिस्कुट का वितरण किया था। वे बता रहे थे कि हम बैंक वाले हैं। हम जानते हैं कि फ़सल बीमा में उनके साथ कैसे ठगी हो रही है। इसे कहते हैं लोगों की अंतरात्मा पर असर कर जाना। बैंकर खुद पीड़ित हैं। वे भी सताए जा रहे हैं। उनकी नौकरी में नए क़िस्म के भयंकर दबाव आ गए हैं। आप किसी बैंकर से बात कीजिए, लगेगा किसानों को अपने लिए नहीं बैंकरों के लिए मार्च करना चाहिए। बैंकर बोल नहीं सकते मगर देख रहे हैं कि किस तरह से खेल खेला जा रहा है।

loading...