लखनऊ: मनीषा मंदिर के बाल संरक्षण गृह में हो रहा था बच्चियों के साथ उत्पीड़न, इतनी लड़कियों को छुड़ाया

उत्तर प्रदेश-लखनऊ: गोमती नगर के मनीषा मंदिर के बाल संरक्षण गृह में शनिवार को जिला बाल संरक्षण की टीम ने छापेमारी करके वहाँ से 14 नाबालिग बच्चियों को छुड़ाया है।

जिला बाल संरक्षण इकाई की टीम ने बाल संरक्षण गृह में लगभग 15 दिन पहले जांच करने पहुँची तो वहाँ पर कई कमिया पाई गई। बच्चों से बात करने पर पता चला की बच्चों से साफ-सफाई, घास उखड़वाने और झाड़ू-पोछा जैसा काम करवाया जाता है। जिसके बाद टीम 15 दिन बाद शनिवार को सीडब्ल्यूसी कोर्ट का नोटिस लेकर पहुँची और वहाँ रह रही 14 नाबालिग बच्चियों को छुड़ाकर अपने साथ ले आई।

वही इस पुरे प्रकरण में संरक्षण सुपरिंटेंडेंट आसमा जुबेर ने बताया कि, उन्हें शिकायत मिली थी कि मनीषा मंदिर के बाल संरक्षण गृह में बच्चियों से काम करवाने के साथ-साथ मारपीट भी की जाती है। जिस कमरे में बच्चिया रहती है वो काफी छोटा है। साथ ही काफी गन्दा था। बाल संरक्षण गृह की जो सुपरिंटेंडेंट है वह बच्चियों की देखभाल नहीं करती थी। इसकी वजह से आज बाल संरक्षण इकाई की टीम ने कार्रवाई करते हुए 14 लड़कियों को मनीषा मंदिर के बाल संरक्षण गृह से आजाद कराया है।

बाल संरक्षण गृह से आजाद कराई गई बच्चियों ने बताया कि हम बच्चों को बहुत प्रताड़ित किया जाता था। बस साफ-सफाई, घास उखड़वाने और झाड़ू-पोछा जैसा काम करवाया जाता था। खाना भी नहीं देते थे। इसके अलावा भी कई तरह के काम करवाए जाते थे।

ताज़ा अपडेट पाने के लिए आप इस लिंक को क्लिक करके हमारे फेसबुक पेज को लाइक कर सकते है

Check Also

राकेश टिकैत बोले- एक बैठक टलने से कोई फर्क नहीं पड़ता, हम कानून रद्द होने तक दिल्ली से हिलेंगे ही नहीं

नए कृषि कानूनों पर समाधान तलाशने के लिए केंद्र सरकार द्वारा किसान यूनियनों के साथ …