‘लखनऊ हिंसा: लखनऊ पुलिस को मिली बड़ी सफलता, हिंसा का मास्टरमाइंड गिरफ्तार पीएफआई से निकला संबंध’

लखनऊ में हुई 19 दिसंबर को हिंसा और आगजनी को लेकर लखनऊ पुलिस को बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। पुलिस ने हिंसा के पीछे तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। जिसमें गिरफ्तार इंदिरा नगर निवासी मास्टरमाइंड वसीम के बारे में पुलिस ने बताया तीनों लोग पीएफआई के लिए काम करते थे और लखनऊ में पिछले कई महीनों से रुक कर पीएफआई को फैला रहे थे।

लखनऊ में 19 दिसंबर को हिंसा आगजनी तोड़फोड़ को लेकर पुलिस ने तीन मुख्य आरोपियों को गिरफ्तार किया है। जिसमें से एक आरोपी वसीम को लखनऊ इंदिरा नगर लखनऊ और नदीम और अशफाक को बाराबंकी से गिरफ्तार किया है। तीनों के पास से पुलिस ने भारी मात्रा में पोस्टर, बैनर पेपर जिसमें एनआरसी के विरोध को लेकर पर्चे और बाबरी मस्जिद से जुड़े कागज, राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद की उर्दू किताबें बरामद की है। एसएसपी लखनऊ का कहना है यह तीनों यूपी के और राज्यों में भी पीएफआई को फैलाने की साजिश कर रहे थे। पुलिस ने कहा कि इनसे और पूछताछ की जा रही है। आगे जो भी बातें सामने आएंगी वह मीडिया के साथ रखी जाएंगी।

वहीं एसएसपी लखनऊ ने यह भी बताया कि मुख्य आरोपी वसीम लखनऊ में रहकर 19 तारीख की हिंसा को लेकर प्लान बना रहा था। 19 तारीख को दो और आरोपी बाराबंकी से लखनऊ आए इन तीनों ने मिलकर लखनऊ में हिंसा को अंजाम दिया। पुलिस ने जब इनके व्हाट्सएप खंगाले तो उसमें कई ऐसे ग्रुप मिले जिसमें लोग भड़काऊ भाषण लिखकर लोगों तक पहुंचा कर आगजनी के लिए उग्र कर रहे थे। पुलिस ने बताया कि इन लोगों ने योजनाबद्ध तरीके से इस घटना को अंजाम दिया और आगजनी फैलाई थी।

एसएसपी लखनऊ ने बताया
19 तारीख की घटना को लेकर अब तक टोटल 39 मुकदमे दर्ज किए गए हैं, जिसमे 19 तारीख से पहले 6 मुकदमे लिखे गए थे। बाकी के 33 मुकदमे बाद में लिखे गए थे और पुलिस ने बताया कि ये तीनो पीएफआई जो सिमी संगठन का सदस्य हैं, उसके लिए काम करते थे। इन तीनो साथियों ने योजना बनाकर शांति भंग व आगजनी की और पुलिस ने बताया की सिमी से जुड़े पीएफआईसी मौलाना को भी गिरफ्तार किया जा चुका है।

वही इस घटना में शामिल तीनों आरोपी में से वसीम अहमद प्रदेश अध्यक्ष पीएफआई है। यह लखनऊ के इंदिरा नगर का रहने वाला है नदीम और अशफाक रामनगर जनपद बाराबंकी का रहने वाला है। पुलिस ने यह कहा कि लखनऊ से रिहाई मंच के मोहम्मद शोएब को भी हम लोगों ने गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है।इन लोगो ने 4 नवंबर को गांधी प्रेक्षागृह में एक मीटिंग की थी। जो बिना परमिशन के मीटिंग थी। कई लोगों को इस मीटिंग में बुलाया गया था। रिहाई मंज के मो शोएब को भी गिरफ्तार कर लिया गया था।

एसएसपी लखनऊ ने कहा कि आगे इस मामले में और भी लोगों को गिरफ्तार किया जाएगा। तब आप लोग को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके उस बारे में जानकारी दे दी जाएगी। मगर बड़ा सवाल यह है कि पीएफआई जुड़े संगठन के मास्टरमाइंड 6 महीने से लखनऊ में डेरा डालकर किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में थे। जो उन लोगों ने 19 तारीख को अंजाम दे दिया।

यदि मगर लखनऊ पुलिस को इस बात की कानों कान खबर तक लगी इधर इस मामले में कई बड़े अफसरों की भी लापरवाही की बात सामने आई है। पुलिस की एलआईयू टीम की भी लापरवाही की बात सामने आई है। अगर पुलिस पहले ही सतर्क होकर ऐसे मास्टरमाइंड लोगों को पकड़ लेती तो शायद लखनऊ में हुई आगजनी और तोड़फोड़ का यह दंगा भड़कता ही नहीं।

वहीं पुलिस द्वारा पकड़े गए आरोपियों ने बताया कि उन्होंने कोई भी गुनाह नहीं किया है उन्हें पुलिस फर्जी तरह से फंसा रही है साथ ही उन्होंने बताया कि उनकी जांच करा लें। (सदफ हसन की रिपोर्ट)

Check Also

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए चारो जनपद में चल रहा चेकिंग अभियान, SSP गोरखपुर खुद सड़क पर उतरे

उत्तर प्रदेश: पुलिस कर्मियों का हत्यारा अभी भी फरार, दुर्दांत अपराधी विकास दुबे अभी भी …