भारत-पकिस्तान बंटवारे के 70 साल बाद पहली बार अपने सिख भाई से मिलीं मुस्लिम बहनें, मिलकर खूब

0
91

लाहौर: पाकिस्‍तान के पंजाब में स्थित ननकाना साहिब में हर साल बड़ी संख्‍या में भारतीय सिख श्रद्धालु पहुँचते है। हर साल की तरह इस साल भी भारतीय सिख गुरुनानक जयंती के मौके पर पहुँचे थे। जिसमे से एक भाई की 70 साल बाद अपने बहनो से मिलने का मौका मिला।

दरअसल, डेरा बाबा नानक के पास स्थित एक गांव से संबंध रखने वाले इन तीनों भाई- बहनों की मुलाकात रविवार को पाकिस्तान स्थित गुरु नानक देव जयंती के मौके पर ननकाना साहिब गुरुद्वारे में हुई। बरसो बाद अपने भाई बेअंत सिंह को देख दोनों बहने उल्फत बीबी और मैराज बीबी ने उसे लगाके रोने लगी। लेकिन भाई की बहने अब इस्लाम धर्म कबूल कर चुकी हैं और अब पाकिस्‍तान की नागरिक हैं लेकिन बेअंत सिंह आज भी सिख धर्म का पालन करते हैं।

‘द एक्‍सप्रेस ट्रिब्‍यून’ के अनुसार, मुस्लिम हो चुकी बहनें उल्‍फत बीबी और मिराज बीबी अपने सिख भाई बेअंत सिंह के गले लगीं। इससे पहले इनकी आजतक अपने भाई से मुलाकात नहीं हुई थी। लेकिन खत का आदान-प्रदान होता था। आपको बतादे की इन सभी भाई-बहनो का परिवार भारत में पंजाब राज्‍य के गुरदासपुर जिले के डेरा बाबा नानक के पास स्थित पारचा गांव के रहने वाले है।

वही उल्फत बीबी ने ‘द एक्‍सप्रेस ट्रिब्‍यून’ अखबार से बात करते हुये कहा की, उन्हें भारत में रह रही अपनी भाभी और भतीजों से भी मिलने की परमिशन मिलनी चाहिए। साथ ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से उल्फत और मिराज ने अपने भाई बेअंत के वीजा का समय बढ़ाने की भी अपील की। अभी कुछ दिनों पहले भारत और पाकिस्तान ने करतारपुर साहिब गलियारे को खोलने की परमिशन दे दी थी। जिसके बाद से भारतीय सिखों का पकिस्तान में मौजूद अपने पवित्र तीर्थस्थल करतारपुर साहिब पहुंचना आसान हो जाएगा।

loading...